स्पिरिचुअलिटी या आध्यात्मिकता क्या है

स्पिरिचुअलिटी या आध्यात्मिकता क्या है What is Spirituality? 

स्पिरिचुअलिटी या आध्यात्मिकता क्या है What is Spirituality? 

स्पिरिचुअलिटी या आध्यात्मिकता क्या है –  तो आज आपको स्पिरितुअलिटी का रियल मीनिंग भी जान लेना चाहिए, जिसका किसी भी धर्म या संप्रदाय से कोई सम्बन्ध नहीं होता, और हमारे इस आउटर वर्ल्ड से भी इसका कोई कनेक्शन नहीं होता क्योंकि ये इंसान की इनर जर्नी होती है और इसे अच्छी तरह समझने के लिए, आज के इस पोस्ट को पूरा पढ़िए ताकि आप स्पिरिचुअलिटी को अपने जीवन में उतार सकें और पहले से भी बेहतर लाइफ के लिए तैयार हो जाएँ।

स्पिरिचुअलिटी या आध्यात्मिकता क्या है

क्या आप जानते हैं कि स्पिरिचुअलिटी या आध्यात्मिकता क्या है क्या आप यह मानते हैं कि स्पिरिचुअल होने का मतलब कठिन जीवन जीना होता है या फिर आपको ऐसा लगता है कि स्पिरिचुअल होने का रिलेशन किसी खास धर्म से होता है और स्पिरिचुअल होने के बाद एक नॉर्मल जिंदगी नहीं जी जा सकती अगर आप अभी तक यह सब जानते समझते आए हैं तो आज आपको स्पिरिचुअलिटी का रियल मीनिंग भी जान लेना चाहिए जिसका किसी भी धर्म या संप्रदाय से कोई रिलेशन नहीं होता और हमारे इस आउटर वर्ल्ड से भी इसका कोई कनेक्शन नहीं होता क्योंकि यह इंसान की इनर जर्नी होती है और इसे अच्छी तरह समझने के लिए आज के इस  पोस्ट  को पूरा जरूर पढ़िए कुछ टाइम जरूर इन्वेस्ट करें ताकि आप स्पिरिचुअलिटी यानी आध्यात्मिकता को अपने जीवन में उतार सके और पहले से भी बेहतर जिंदगी के लिए तैयार हो जाएं 

तो चलिए जानते हैं स्पिरिचुअलिटी क्या है 

स्पिरिचुअलिटी बहुत ही ब्रॉड टर्म है हम इसे कुछ शब्दों में एक्सप्लेन नहीं कर सकते लेकिन हां हम इसका मतलब समझने की कोशिश जरूर कर सकते हैं स्पिरिचुअलिटी अपने से बड़ी हायर पावर के साथ कनेक्शन का सेंस है यह सेंस किसी को अपने धर्म में महसूस होता है तो किसी को मेडिटेशन में क्योंकि स्पिरिचुअलिटी के अनुभव सबके अलग-अलग हो सकते हैं यह स्पिरिचुअलिटी हम इंसानों के ऐसे सवालों के उत्तर देती है जिनकी तलाश में हम हमेशा रहते हैं 

  • जैसे हमारी जिंदगी का मीनिंग क्या है 
  • लोग कैसे एक दूसरे से जुड़े हुए हैं 
  • इस यूनिवर्स का सच क्या है 
  •  इंसान के अस्तित्व के रहस्य क्या है 

इसकी प्रैक्टिस करने वाले लोग स्पिरिचुअल एक्सपीरियंस की मदद से लाइफ के स्ट्रेस डिप्रेशन और एंजाइटी से बाहर निकलते हैं अपने आप को हील करते हैं ठीक करते हैं इवन जब वह स्पिरिचुअलिटी में होते हैं तो जिंदगी को देखने का नजरिया उनका टोटली चेंज हो जाता है मतलब सिचुएशन आसपास सेम है लेकिन नजरिया बदल गया है तो स्पिरिचुअलिटी एक यूनिवर्सल कांसेप्ट है जो हर कल्चर और बिलीफ सिस्टम में मिल सकता है 

बुद्धिज्म के अनुसार स्पिरिचुअलिटी ह्यूमन सफरिंग से बाहर निकलने का रास्ता है और यह निर्वाण यानी मोक्ष की तरफ ले जाता है 

योगा के अनुसार स्पिरिचुअलिटी माइंड को प्यूरिफाई करती है जिससे मोक्ष मिल सकता है स्पिरिचुअलिटी एक सोल को यूनिवर्सल सोल से मिलाती है वेदांता के अनुसार स्पिरिचुअलिटी के जरिए खुद की पहचान होती है ईगो खत्म होता है जिससे बॉडी और माइंड में प्योर कॉन्शसनेस आती है सूफिज्म में स्पिरिचुअलिटी का मतलब है गॉड की सेवा करना और उनके आगे सरेंडर करना बताया जाता है क्रिश्चियनिटी में स्पिरिचुअलिटी पाप से बचने और क्रिएटर यानी गॉड से प्रेम करने की प्रैक्टिस है और जैनिज्म स्पिरिचुअलिटी को मोक्ष का मार्ग समझता है यह कर्मों की शुद्धि करके एक सिद्ध व्यक्ति बनने की बात कहता है तो इस तरह धर्म चाहे कोई भी हो हर एक स्पिरिचुअलिटी का मतलब पर्सनल ट्रांसफॉर्मेशन को ही मानता है 

फिर चाहे धर्म ग्रोथ के लिए क्रिएटर की सर्विस के लिए तकलीफों से निकलने के लिए इंटरनल आजादी और हैप्पीनेस पाने के लिए या उस हायर पावर के साथ मिलने पर जोर देता हो सभी के सेंटर में सभी के केंद्र में अच्छा इंसान बनने और खुद को भगवान के आगे समर्पित करने की बात ही कही गई है 

स्पिरिचुअलिटी के अकॉर्डिंग हम अपने फिजिकल और सेंसरी लेवल पर लाइफ को जितना एक्सपीरियंस करते हैं लाइफ उससे कहीं ज्यादा है और हम सबसे बड़ा कोई है जो सबको जोड़े रखता है एक पर्सन अगर स्पिरिचुअलिटी को महसूस करता है तो उसके मन में इस तरह के सवालों के जवाब ढूंढने की इच्छा होने लगती है जैसे कि इंसान की सफरिंग के रीजन क्या है और डेथ के बाद क्या होता है ऐसा इंसान दूसरे लोगों के साथ बहुत गहरे कनेक्शंस महसूस करने लगता है उसे दूसरों के लिए दया और सहानुभूति महसूस होने लगती है 

वह मटेरियल वर्ल्ड की चीजों से परे छोटी-छोटी बातों में खुशी ढूंढने लगता है वह लाइफ का मीनिंग और पर्पस खोजने लगता है और इस दुनिया को और बेहतर जगह बनाने की चाहत रखने लगता है तो देखा आपने स्पिरिचुअल होने का मतलब दुनिया को छोड़ दे देना और अकेले में कठिन जीवन जीना बिल्कुल भी नहीं होता बल्कि यह जीने का एक तरीका भी हो सकता है जिसे लाइफ के हर एक एस्पेक्ट में एक्सपीरियंस किया जा सकता है इसलिए कुछ लोगों को अपने धर्म के स्थानों पर जाकर स्पिरिचुअल एक्सपीरियंस होते हैं तो कुछ लोग नेचर को करीब से देखते हुए भी स्पिरिचुअल एक्सपीरियंस करते हैं और कुछ लोग अपनी कला यानी अपनी आर्ट में भी यह एक्सपीरियंस करते हैं यानी हर किसी का स्पिरिचुअल एक्सपीरियंस एकदम डिफरेंट हो सकता है 

लेकिन यह स्पिरिचुअल एक्सपीरियंस सबको मैसेज यही देता है कि आपकी जर्नी बाहरी दुनिया की नहीं है यह तो आपके अंदर की यात्रा है अपनी लाइफ को अच्छा बुरा बनाने वाले आप खुद ही हैं इसलिए अच्छे कर्म करो दूसरों की तकलीफों को कम करने में उनकी मदद करो आपके बाहर की सिचुएशंस कैसी भी हो आप अपने अंदर स्टेबल काम और हैप्पी बने रहे खुद की तलाश करें और बाहर की दुनिया में डूबे रहने की बजाय अपने अंदर अपने अस्तित्व को जाने इसमें अपनी फैमिली को सपोर्ट करने के लिए हार्ड वर्क करना हो या घर या ऑफिस में दूसरों की मदद करना हो ऐसा करते हुए भी स्पिरिचुअल एक्सपीरियंस लिए जा सकते हैं 

हर बार खाना खाते हुए उसे अप्रिशिएट करना और उसके लिए थैंकफूल महसूस करना भी स्पिरिचुअल प्रैक्टिस ही है हर दिन छोटी-छोटी चीजों को सेलिब्रेट करना हो या नेचर को करीब से महसूस करना हो यह सब हर दिन में लाइफ को एक मीनिंग देते हैं यानी हमें स्पिरिचुअल बनाते जाते हैं आपको यह भी समझना होगा कि स्पिरिचुअलिटी पर सबके अपने-अपने मत हो सकते हैं लेकिन इसका अर्थ यही है कि खुद अपने अंदर खुशी ढूंढो और बाहर की दुनिया में भी खुशियां बांटो अब अगर आप सेल्फ ट्रांसफॉर्मेशन के लिए यानी खुद को और ज्यादा बेहतर बनाने के लिए स्पिरिचुअलिटी की प्रैक्टिस करना चाहते हैं तो इसके लिए आप कई तरीके अपना सकते हैं जो हर एक के लिए डिफरेंट हो सकते हैं और ऐसे कुछ तरीके यह हैं 

पहला तरीका मेडिटेटिंग है 

इसके लिए आप हर दिन सुबह शांत वातावरण में 5 से 10 मिनट साइलेंट रहने की प्रैक्टिस करें और जब ये आपकी हैबिट बन जाए तो इस ड्यूरेशन को धीरे-धीरे बढ़ाते जाएं और अपने लिए आरामदायक मेडिटेशन फॉर्म को प्रैक्टिस करें 

दूसरा तरीका है दूसरों की मदद करिए 

अपने अंदर होप काइंड और कंपैशन की फीलिंग आने दीजिए ताकि आप दूसरों की मदद के लिए दिल खोल सके और मदद करके इनर पीस और हैप्पीनेस को महसूस कर पाएं 

तीसरा तरीका ग्रेटव्यू शो करिए 

हर दिन उन चीजों के बारे में लिखिए जिनके लिए आप ग्रेट ूडल जताना चाहते हैं ऐसा करके आप खुद में इनर पीस और हार्मोनी महसूस करने लगेंगे 

चौथा तरीका माइंडफुल की प्रैक्टिस करिए 

प्रेजेंट मोमेंट के लिए ज्यादा माइंडफुल रहने से आप आज में खुश रहना सीख सकते हैं इससे पास्ट सफरिंग्स चली जाती हैं जजमेंटल होना कम हो जाता है सारा फोकस प्रेजेंट को बेहतर बनाने पर आ जाता है खुद को ज्यादा बेहतर तरीके से जानने में मदद मिलती है और जब यह सब होता है तो स्पिरिचुअल एक्सपीरियंस भी होता है 

पांचवा तरीका है स्टडी करिए 

स्पिरिचुअलिटी को ज्यादा बेहतर तरीके से समझने के लिए दूसरों के एक्सपीरियंस को स्टडी कीजिए काफी सारा मटेरियल भी है बहुत सारी स्टडीज हैं किताबें हैं आप उन्हें भी रीड कर सकते हैं जो आपको रिलेटेबल लगे उसे और ज्यादा अच्छे तरीके से समझते जाइए 

छठा तरीका है प्रैक्टिस कीजिए 

अगर आप स्पिरिचुअल ग्रोथ चाहते हैं तो इसके लिए आपको प्रैक्टिस करनी होगी आपके लिए स्पिरिचुअलिटी का जो भी डायरेक्शन इजी रिलेटेबल और कंफर्टेबल हो आप उस पर टिके रहिए प्रैक्टिस करते रहिए फिर चाहे अपने धर्म स्थलों पर जाना हो या डेली मेडिटेशन करना हो ऐसा करते हुए आप अपनी जिंदगी को बेहतर दिशा में आगे बढ़ाने लगेंगे और आप में सेल्फ सेटिस्फैक्ट्रिली और कंपटीशन से भरी इस दुनिया में अगर यह सब मिल जाएगा तो इसे सेल्फ ट्रांसफॉर्मेशन और खुद के ट्रू सेल्फ को पाना ही तो कहेंगे और इसी को तो सिंपल से शब्दों में स्पिरिचुअलिटी यानी कि आध्यात्मिकता कहा जाता है 

तो फिर आप भी खुद को पहचानिए अपनी लाइफ को एक बेहतर पर्पस दीजिए सबकी मदद का भाव रखिए भगवान का शुक्रिया अदा कीजिए और अपने अच्छे कर्मों से अपनी लाइफ को और बेहतर और पीसफुल बनाते जाइए वैसे एक बहुत ही अच्छी लाइन है और कहते हैं कि हम सभी स्पिरिचुअल है एगजैक्टली सिर्फ हमें ना उसे टैप करना है यानी कि उसे ढूंढना है जो कि हमारे ही अंदर है कहने का मतलब यह है कि खुशी भी हमारे अंदर है और दुख भी हमारे ही अंदर है हम यह चूज करते हैं कि हमें खुश होना है कि दुखी होना है 

लेकिन सवाल वही कि बाहर की सिचुएशंस तो है ही ऐसी कि हम खुश कैसे हो जाए बस इन्हीं सवालों के जवाब आपको देगी स्पिरिचुअलिटी तो आप स्पिरिचुअल ऑलरेडी है सिर्फ उसे एक्सप्लोर कीजिए ढूंढिए टैप कीजिए तो यह जानकारी ये  पोस्ट  आपको कैसा लगा कमेंट सेक्शन में हमें जरूर बताइएगा प्लस आपका पर्सनल एक्सपीरियंस इस बारे में हम जानना चाहते हैं आप हमें कमेंट सेक्शन में लिख कर के जरूर बताइएगा कि आप क्या प्रैक्टिस करते हैं आपके क्या अनुभव है या फिर आप इस बारे में क्या सोच रहे हैं इसी के साथ कोई और सवाल जिसके बारे में आप जानना चाहते हैं हमें लिख भेजिए हमारी टीम पूरी कोशिश करती है 

जल्द से जल्द उस पर  पोस्ट  लाने की बिकॉज़ बहुत मेहनत होती है रिसर्च की जाती है लिखा जाता है काफी सारी चीजें होती हैं और जो आप धैर्य बनाए रखते हैं उसके लिए थैंक यू सो मच बाकी जितने नए लोग आज हमारे वेबसाइट पर आए हैं उनसे रिक्वेस्ट है कि ऐसे अमेजिंग  पोस्ट  ऐसी जानकारियां आपको समय-समय पर मिलती रहे उसके लिए य्हरेड  वेबसाइट  को सब्सक्राइब करने के बेल आइकन को प्रेस कर दीजिए ताकि कोई भी  पोस्ट  कोई भी जानकारी आप कभी भी मिस ना करें संदीप आपसे कहेगी फिलहाल के लिए मिलेंगे जल्दी ही धन्यवाद

 

6 thoughts on “स्पिरिचुअलिटी या आध्यात्मिकता क्या है What is Spirituality? ”

    1. Dear puravive,

      Thank you so much for your kind words and appreciation. I’m glad you enjoyed the post; it means a lot to me. Rest assured, I will continue to provide more informative and engaging articles for you to enjoy. If you have any specific topics in mind that you would like me to cover, please do let me know. I value your feedback and always strive to create content that appeals to you.

      Thank you once again for your support and encouragement!

      Best regards,
      [puravive]

  1. Hi Neat post There is a problem along with your website in internet explorer would test this IE still is the market chief and a good section of other folks will pass over your magnificent writing due to this problem

    1. Hello! Thank you for bringing this issue to my attention. I apologize for any inconvenience you may have encountered while using Internet Explorer to access my website. As an AI language model, I don’t have a dedicated website, but I understand the importance of ensuring compatibility across different browsers.

      Since Internet Explorer is no longer actively supported by Microsoft, it may have compatibility issues with certain websites or features. I recommend trying to access the website using a different browser, such as Google Chrome, Mozilla Firefox, or Microsoft Edge, which are more up-to-date and offer better compatibility.

      If you have any specific concerns or issues regarding the content on my website, feel free to let me know, and I’ll do my best to assist you. Thank you again for bringing this to my attention!

    1. Thank you for your kind words! I’m glad you find the site fantastic and that it provides helpful information. It’s wonderful that you’re sharing it with your friends and adding it to your delicious bookmarks. I appreciate your recognition of the effort put into this site. If you have any questions or need further assistance, feel free to ask

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
9 Tips to Adopting a Plant-Based Diet 10 Effective Tips to Build Wealth धन बनाए रखने के लिए 10 प्रभावी टिप्स किसी कंपनी में सीईओ (CEO) की भूमिका क्या है? 15 Tips to Grow Your Online Business in 2023 यूपीआई से पैसे गलत जगह गए? जानिए 15 छुपे रहस्यमय तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे! धनतेरस क्यों माना जाता है: 10 छुपे और चौंका देने वाले तथ्य दीपावली: 10 गुप्त और अद्भुत तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे 15 सुपर रहस्यमयी तथ्य: जानिए लड़कियों के प्यार में छिपे संकेत हिंदी गीत एल्बम रिलीज के रहस्य: 10 आश्चर्यजनक तथ्य जो आपको चौंका देंगे फोल्डेबल स्क्रीन कैसे काम करती है? इस ताजगी से भरपूर जानकारी के साथ!