ध्यान : हर काम में ध्यान ढूंढो ! Unveiling Excellence in Every Task

ध्यान : हर काम में ध्यान ढूंढो ! Unveiling Excellence in Every Task

ध्यान : हर काम में ध्यान ढूंढो ! Unveiling Excellence in Every Task

 

ध्यान : हर काम में ध्यान ढूंढो :- क्या आपने कभी सोचा है कि हर एक कदम जो हम जिंदगी में उठाते हैं वह हमारे लिए एक नया सफर की शुरुआत होता है आज हम साथ में उस सफर की शुरुआत करेंगे जिसमें हर काम को ध्यान बनाओ और आगे बढ़ो का मंत्र हमें सही दिशा दिखाता है इस मंत्र के पीछे छुपी ताकत है जो हमें हर एक कार्य में हर एक लम्हे में नई दिशा देती है जब हम अपने कामों को ध्यान से करते हैं तब हम अपने इरादों को साकार करते हैं नई मंजिलों की तरफ बढ़ते आज हम सीखेंगे कैसे ध्यान से काम करके हम अपने सपनों को हकीकत में बदल सकते हैं 

कैसे हर कदम एक नए सफर की शुरुआत बन सकता है (ध्यान : हर काम में ध्यान ढूंढो)

तो चलिए आज हम इस मंत्र के साथ मिलकर नए सफर की शुरुआत करते हैं जिसमें हर कदम एक नई कहानी का आरंभ होगा बहुत पहले की बात है एक महान सम्राट अपने रोज के कामों से परेशान रहने लगता था उसको हर काम में मन नहीं लगता था तब एक बार सम्राट के कानों तक बात पहुंची कि उसके राज्य में लाऊ नाम का एक बौद्ध भिक्षु असाधारण दार्शनिक रहता है जब मंत्रियों ने बताया कि लाव के एक-एक शब्द में जीवन का सत्य छुपा है उनके जैसा प्रबुद्ध व्यक्ति दूर दूर तक नहीं है 

तब सम्राट ने सोचा कि एक बार चलकर देखते हैं कि लाव झंगहा है अगले दिन सम्राट लाव से मिलने निकला लाव पहाड़ के पास एक छोटे से कस्बे में रहते थे रास्ता बहुत लंबा था बीच रास्ते में पता किया तो लोगों ने भी लाव की तारीफ की सम्राट ने सोचा कि सच में कोई बुद्धि पढ़ा लिखा और प्रभावशाली व्यक्ति होगा शाम को जब सम्राट लाव जू की झोपड़ी के बाहर पहुंचा तो एक मजदूर छोटी सी बगिया में काम कर रहा था शरीर पर मिट्टी लगी थी पैरों में चप्पल नहीं थी 

सम्राट ने पूछा अरे बागवान महोदय लाजू कहां है 

मैं उनसे मिलना चाहता हूं बागवान ने कहा श्रीमान आप अंदर बैठिए मैं अभी लाजू को बुलाता हूं सम्राट अंदर बैठकर प्रतीक्षा करने लगा थोड़ी देर में लाव चू ने झोपड़ी में आकर नमस्कार किया सम्राट ने हैरान होकर कहा अरे आप तो वही बागवान है जो बाहर थे लाव ने कहा कसूर माफ करें मैं छोटा सा काम कर रहा था मैं ही बागवान हूं और मैं ही लाव छू हूं आप आने का कारण बताएं सम्राट ने कहा मैंने सुना है कि आप जैसा असाधारण व्यक्ति राज्य में दूसरा नहीं है तो मैं आपसे मिलने चला आया मैं आपसे आत्मज्ञान पर उपदेश चाहता हूं 

लेकिन मुझे माफ कीजिए मैं देख रहा हूं कि आपके पास ना कोई किताब है ना कोई सीधी ना कोई कला के संकेत दिखते हैं लेकिन फिर भी आप बहुत शांत दिख रहे हैं क्या मुझे आप अपना सीक्रेट बता सकते हैं लाव ने कहा सुबह का समय ठीक रहेगा कल सूर्योदय होने से पहले आप मुझसे मिलिए यह कहकर लाव जू मौन हो गए उस रात सम्राट को नींद नहीं आई उसे कौतूहल था कि लाओ मुझे क्या बताने वाले हैं अगले दिन सम्राट पहुंचे तो लाव जू बगीचे में खड़े थे लाव ने कहा सम्राट यहां आइए और इस जग से पौधे पर धीरे-धीरे पानी डालो ऐसा करते-करते इन 15 पौधों पर पानी डालना 

लेकिन पानी डालते समय तुम कुछ और मत करना ना कुछ और सोचना अपना ध्यान पानी और पौधे पर बनाए रखना अगर कोई आए तो रुक जाना और दोबारा पहले पौधे से पानी डालना जब तुम सारे पौधों को पानी दे दो तब मेरे पास आना सम्राट को पहली बार इस तरह का काम मिला था 

सम्राट ने बड़े ध्यान से पहले पौधे में पानी डाला फिर दूसरे पौधे में पानी डाला फिर तीसरे पौधे पर जा ही रहा था कि वह महल के बगीचे के बारे में सोचने लगा सम्राट बुद्धिमान था उसे पता था कि लाव जूस की परीक्षा ले रहे हैं अगर वह चीटिंग करेगा तो पकड़ा जाएगा 

इसलिए सम्राट दोबारा पहले पौधे पर पानी डाल ले गया इस बार वह दूसरे पौधे तक पहुंचा ही था कि पानी डालते डालते वह नदी के बारे में सोचने लगा सम्राट परेशान होकर दोबारा पहले पौधे के पास पहुंचा सम्राट जितनी कोशिश करता उतना व्याकुल हो जाता और खुद को किसी ना किसी विचार में फंसा हुआ पाता आखिर शाम हो गई 

लेकिन सम्राट आखिरी पौधे तक पहुंच नहीं सका जब सम्राट थक कर बैठ गया तब लाव ने कहा सम्राट मैं तुम्हारी ईमानदारी से बहुत खुश हूं इसलिए सुनो जब मन विचारों से खाली होता है तब उसमें मन का असली स्वरूप यानी साइलेंट अवेयरनेस प्रकट होती है तब हर साधारण काम भी तुम्हें असीम ज्ञान शांति देता है 

राजा ने कहा लेकिन यह संभव कैसे है जब हम काम करते हैं तो हमें कई विचार परेशान करते हैं लाव ने कहा राजा तुम पौधे में पानी नहीं डाल रहे थे तुम जल्दी से जल्दी काम खत्म करना चाहते थे तुम्हें काम खत्म करने की जल्दी थी जिससे तुम मुझसे बात कर सको इसलिए तुम्हें यह काम बोझ लग रहा था जिस कारण तुम इस पल में रुक नहीं पाए अगर तुम इस फल की कीमत समझकर केवल पौधे और पानी पर ध्यान देते तो तुम्हें कोई विचार परेशान नहीं करते राजा ने कहा यह सब तो मैं समझ रहा हूं 

लेकिन इस पल में रहना बहुत कठिन है क्या मुझे इसके लिए अकेले रहकर तपस्या करनी पड़ेगी लाचू कहते हैं कि शांत मन तो पहले से ही मौजूद है इसके लिए कहीं जंगल जाने की जरूरत नहीं है सबसे पहले अपनी सांस पर ध्यान देना सीखो तब आपको पता चलेगा कि शांति तो सांस के साथ ही बनी हुई है उसके बाद काम करते करते सांस पर ध्यान बनाए रखो आप बोलते चलते सोचते हुए भी अपनी सांस पर ध्यान दे सकते हो जब आप ऐसा करते हो तो बिखरा हुआ

मन सिमट लगता है और एकाग्र यानी वन पॉइंटेड जाता है वन पॉइंट माइंड से जब कोई काम किया जाता है तो उस मन में केवल वही काम रिफ्लेक्ट होता है और कोई विचार उत्पन्न नहीं होता जब ऐसा होता है तो कर्ता और कर्म एक हो जाता है और साइलेंट अवेयरनेस जो पहले से बनी हुई थी वह प्रकट हो जाती है तुम इसे आत्मज्ञान आनंद प्रेजेंट मूवमेंट इसे जो चाहे नाम दो यह आसानी से प्राप्त हो जाती है लाओ जो कहते हैं जो मन मुश्किल को रजिस्ट नहीं करता जो मन परेशानी से भागता नहीं है केवल सचेत रहता है वह मन हर परेशानी को पार कर जाता है 

दोस्तों कभी काम को बोझ मानकर जल्दी-जल्दी खत्म करने की कोशिश मत करो क्योंकि इससे तनाव पैदा होता है आप यहां नहीं बल्कि कहीं और होना चाहते हो तनाव के कारण मन में विचार हावी होने लगते हैं जिससे इरिटेशन होता है और काम जो प्रेजेंट मूवमेंट का दरवाजा था वह सच में बोझ लगने लगता है इसकी जगह काम शुरू करने से पहले अपना ध्यान सांस पर ले आओ और फिर काम के दौरान भी ऐसा करो सांस का ध्यान काम के ध्यान में बदल जाएगा और कठिनाई डिस्टरबेंस आते हुए भी आपको छू नहीं पाएंगे दोस्तों 

यह पोस्ट पसंद आया तो इस पोस्ट को शेयर करें इसी तरह नए पोस्ट आते रहेंगे मिलते हैं एक नई पोस्ट के साथ तब तक के लिए आपका दिल से आभार

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
9 Tips to Adopting a Plant-Based Diet 10 Effective Tips to Build Wealth धन बनाए रखने के लिए 10 प्रभावी टिप्स किसी कंपनी में सीईओ (CEO) की भूमिका क्या है? 15 Tips to Grow Your Online Business in 2023 यूपीआई से पैसे गलत जगह गए? जानिए 15 छुपे रहस्यमय तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे! धनतेरस क्यों माना जाता है: 10 छुपे और चौंका देने वाले तथ्य दीपावली: 10 गुप्त और अद्भुत तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे 15 सुपर रहस्यमयी तथ्य: जानिए लड़कियों के प्यार में छिपे संकेत हिंदी गीत एल्बम रिलीज के रहस्य: 10 आश्चर्यजनक तथ्य जो आपको चौंका देंगे फोल्डेबल स्क्रीन कैसे काम करती है? इस ताजगी से भरपूर जानकारी के साथ!