What is MCH in Medical Course?

What is MCH in Medical Course?

What is MCH in Medical Course?

जब कभी हम इंग्लिश पढ़ रहे होते हैं तो अक्सर हमें मालूम चलता है कि किसी पर्टिकुलर इंग्लिश वर्ड का सोर्स लैटिन है मतलब वह शब्द लैटिन लैंग्वेज से आया है इंग्लिश में लगभग 60 से 80% तक शब्द लैटिन और ग्रीक से लिए गए हैं पर आज के इस पोस्ट में मैं ना ही इंग्लिश और ना ही ग्रीक या लैटिन की क्लास लेने वाली हूं आज बात होगी मगिर किरगिए की यह भी एक लैटिन वर्ड है 

जिसका मतलब होता है मास्टर ऑफ सर्जरी मग मतलब मास्टर या अध्यापक और किरगिए का मतलब होता है सर्जरी तो इंडिया में अगर आप मास्टर ऑफ सर्जरी करना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास एमबीबीएस की डिग्री होनी चाहिए मास्टर ऑफ सर्जरी एक पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स है जो 3 साल का होता है एमबीबीएस करने के लिए नीट की तैयारी करनी पड़ती है और नीट देने के लिए किसी भी स्टूडेंट का साइंस स्ट्रीम से फिजिक्स बायोलॉजी या बायोटेक्नोलॉजी और केमिस्ट्री से 10थ 12थ  पास करना जरूरी होता है और साथ ही इंग्लिश पर अच्छी पकड़ भी तो नीट एग्जाम है 

गेटवे ऑफ एमबीबीएस और हमारी लाइब्रेरी में आपको हाउ टू प्रिपेयर जेईई एंड नीट टुगेदर और नीट क्या है कि पूरी जानकारी के नाम से दो अलग-अलग पोस्ट में मिल जाएंगे वहीं मास्टर ऑफ सर्जरी करने के लिए एमबीबीएस ग्रेजुएट स्टूडेंट्स को नीट पीजी या आई एन आई सीईटी यानी इंस्टिट्यूट ऑफ नेशनल इंपॉर्टेंस कंबाइंड एंट्रेंस टेस्ट की तैयारी करनी पड़ती है 

अगर आप एमबीबीएस कर चुके हैं और मास्टर करने की सोच रहे हैं तो आपके पास दो ऑप्शंस है 

पहला तो यह कि आप एमबीबीएस के तुरंत बाद पीजी की तैयारी करें और या तो आप जॉब करते हुए भी मास्टर ऑफ सर्जरी या एमएस की तैयारी कर सकते हैं क्योंकि ऑलरेडी आप नीट क्वालीफाई कर चुके होते हैं तो नीट पीजी देना आपके लिए थोड़ा आसान बन जाता है इसका मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि नीट पीजी एक इजी एग्जाम है जॉब के साथ अगर आप एमएस के लिए तैयारी करना चाहते हैं तो आपको खुद से कुछ सवाल पूछने होंगे जैसे आपके वर्किंग आवर्स के है और एमएस की तैयारी के लिए आप कितने ज्यादा कमिटेड हैं जॉब करने के बाद आपको तैयारी करने के लिए कितना टाइम मिल रहा है आप किन सब्जेक्ट्स में स्ट्रांग और कमजोर हैं 

साथ ही नीट और एमबीबीएस के दौरान एग्जाम में आपकी परफॉर्मेंस कैसी थी अगर आप खुद को ऑनेस्टली इन सारे सवालों के जवाब दे पाएंगे तो बिल्कुल आगे बढ़ सकते हैं

 तैयारी के पहले सिलेबस को समझ लीजिए 

लेटेस्ट सिलेबस के अकॉर्डिंग नीट पीजी में एनाटॉमी फिजियोलॉजी बायोकेमिस्ट्री पैथोलॉजी फार्माकोलॉजी माइक्रोबायोलॉजी फॉरेंसिक मेडिसिन सोशल एंड प्रिवेंट मेडिसिन जनरल मेडिसिन में डर्मेटोलॉजी वेनेल जीी और साइकाइट्रिक जनरल सर्जरी में ऑर्थोपेडिक्स एनेस्थीसिया और रेडियो डायग्नोसिस गायनेकोलॉजी और ऑब्सटेट्रिक्स यानी स्त्री रोग बाल रोग या पीडियाट्रिक्स ईएनटी और ऑपथाल्मिक से सवाल पूछे जाते हैं नीट पीजी एग्जाम में टोटल 800 मार्क्स होते हैं और 200 क्वेश्चंस हर सवाल पर चार नंबर और टोटल टाइम मिलता है 35 घंटे अगर आप जनरल कैटेगरी स्टूडेंट हैं तो एमएस में एडमिशन पाने के लिए नीट पीजी में 550 प्लस मार्क्स को सेफ स्कोर माना जाता है 

हालांकि पिछले साल मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर ने देश भर के मेडिकल कॉलेजेस में 13000 से ज्यादा खाली सीट्स को फिल करने के लिए कट ऑफ को जीरो कर दिया था यानी नीट पीजी में जीरो मार्क्स लाने वाले स्टूडेंट्स भी एमएस में एडमिशन ले सकते थे 

नीट पीजी की तैयारी करने के लिए आपको सबसे पहले अपनी स्ट्रेटेजी बना होगी और एक स्टैंडर्ड स्ट्रेटेजी हम भी आपको सजेस्ट कर देते हैं जैसे सबसे पहले आपका फोकस सेल्फ स्टडी पर होना चाहिए अपनी तैयारी के टोटल टाइम का कम से कम 60 पर आपको सेल्फ स्टडी पर देना होगा और हर दिन पढ़ाई करनी होगी अगर आप कोचिंग लेने की सोच रहे हैं तो ले सकते हैं पर यह पूरी तरह से आपका पर्सनल डिसीजन होगा बेहतर होगा कि वीकेंड्स में कोचिंग क्लासेस ली जाए 

कोचिंग क्लासेस का फायदा यह होगा कि आप डाउ क्लियर सेशन में हिस्सा ले पाएंगे और किसी भी टफ टॉपिक पर अपने फैलो स्टूडेंट्स फैकल्टी और मेंटर की सलाह भी तो बाकी बचे दिनों में घर पर पढ़ाई कीजिए और इसके अलावा आप प्रैक्टिस पेपर्स को सॉल्व कर सकते हैं मॉक टेस्ट देना बिल्कुल ना भूलें इससे आप में एग्जाम पैटर्न की समझ बढ़ेगी और आप टाइमली आंसर देने के भी आदी हो जाएंगे मॉक टेस्ट देने से आप खुद की तैयारी का अंदाजा भी लगा पाएंगे 

एक काबिल योद्धा वही होता है जो टाइम टू टाइम अपने हथियार पर धार चढ़ाता रहता है कहने का मतलब रिवीजन से है जब भी आपको फुर्सत मिले रिवीजन कीजिए इससे आप पर प्रेशर क्रिएट नहीं होगा कि अरे एग्जाम आ गए और मैंने तो रिवीजन किया ही नहीं है इसलिए पढ़ाई के साथ-साथ रिवीजन का काम चलते रहना चाहिए मुझे उम्मीद है अगर आप सही से तैयारी करेंगे तो नीट पीजी क्वालीफाई कर जाएंगे एग्जाम सिलेबस और किताबी ज्ञान के अलावा भी एमसीएच या मास्टर ऑफ सर्जरी कर रहे स्टूडेंट के अंदर क्रिटिकल थिंकिंग कल्चरल कॉम्पटन कम्युनिकेशन पंक्चुअलिटी नेगोशिएशन एंड कॉन्फ्लेट रेजोल्यूशन और वर्किंग विद कम्युनिटीज जैसी स्किल्स होनी चाहिए 

क्योंकि हर दिन आपको ढेर सारे पेशेंट्स हैंडल करने होंगे और क्रिटिकल सर्जरीज भी करनी होती हैं वैसे एमसीएच या मास्टर ऑफ सर्जरी के जनरल सिलेबस की बात करें तो कोर्स के दौरान आपको ग्रॉस एनाटॉमी डेवलपमेंटल एनाटॉमी हिस्टोलॉजी और हिस्टो केमिस्ट्री डिसेक्शन ऑफ एंटायस टेक्निक्स इम्यूनोलॉजी जेनेटिक्स बाइल फिजियोलॉजी न्यूरोलॉजी अप्लाइड एनाटॉमी और इससे जुड़े रिसेंट एडवांसमेंट्स भी पढ़ाए जाते हैं और प्रैक्टिकल के साथ प्रोजेक्ट वर्क भी मिलते हैं 

इसके बाद आप जिस किसी भी फील्ड में आगे बढ़ेंगे उसका स्पेशलाइज्ड सिलेबस आपको कवर करना होता है न्यूरोसर्जरी नेटो जीी कार्डियक एनेस्थीसिया प्रिक न्यूरोलॉजी हेमेटोलॉजी हेमेटो पैथ लॉजी ट्रामा कार्डियोथोरेसिक वैस्कुलर सर्जरी मेडिकल ऑंकोलॉजी पीडियाट्रिक सर्जरी नेफ्रोलॉजी और ऑर्थोपेडिक्स में मास्टर ऑफ सर्जरी कर सकते हैं 

एमएस करने के लिए इंडिया के टॉप गवर्नमेंट कॉलेजेस के लिस्ट को देखें 

तो एम्स दिल्ली एम्स भोपाल एम्स जोधपुर आर्म्ड फोर्सेस मेडिकल कॉलेज पुणे एम्स ऋषिकेश कलकता नेशनल मेडिकल कॉलेज बीजे गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज पुणे बीआईएमएस बेलगांव जैसे इंस्टीट्यूट्स का नाम आता है वहीं नीट जी में मिले कट ऑफ पर बेस करके भी आपको नेशनल या स्टेट लेवल का मेडिकल कॉलेज अलॉट हो सकता है बात करें 

अगर सैलरी की तो मास्टर ऑफ सर्जरी के बाद एक जनरल सर्जन की एवरेज एनुअल सैलरी लगभग ₹1 लाख होती है एक ईएनटी सर्जन को 10 से 12 लाख गायनेकोलॉजिस्ट को ₹ लाख ऑर्थोपेडिक सर्जन को ₹1 लाख और न्यूरो सर्जन को लगभग 30 लाख सालाना मिलते हैं जो कम या ज्यादा भी हो सकते हैं वैसे यह सब कुछ डिपेंड कर है कि आप कहां पर काम कर रहे हैं आप कितने एक्सपीरियंस्ड है गवर्नमेंट सेक्टर में है या प्राइवेट सेक्टर में किस शहर में है और दिन में कितने केसेस को हैंडल कर रहे हैं 

उस परे भी अब अगर आपका मन है कि मैं इंडिया से नहीं किसी फॉरेन कंट्री से मास्टर ऑफ सर्जरी करना चाहता हूं या करना चाहती हूं तो इसके लिए आपको ना कुछ बातों का ध्यान रखना होगा जैसे सबसे पहले आपको डिसाइड करना होगा कि मास्टर ऑफ सर्जरी आप किस कंट्री से करना चाहते हैं इसके लिए आप ऑनलाइन रिसर्च भी कर सकते हैं या किसी मेंटर की सलाह भी ले सकते हैं हो सकता है कि आपका कोई जानने वाला ऑलरेडी विदेश में डॉक्टर है तो उनकी राय भी ली जा सकती है 

देश डिसाइड हो जाने पर जिस किसी फील्ड में आप स्पेशलाइजेशन करना चाहते हैं 

उसके लिए उस देश में कौन सा इंस्टिट्यूट और यूनिवर्सिटी बेस्ट है इसका पता लगाना होगा उसके बाद वहां एडमिशन लेने के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया जैसे एकेडमिक क्वालिफिकेशन क्या चाहिए प्रोफेशनल एक्सपीरियंस चाहिए या नहीं और कोर्स इंग्लिश में अवेलेबल है या उस देश की लैंग्वेज प्रोफिशिएंसी जरूरी है इन सभी बातों का पता लगाना होगा यही नहीं उस देश की क्वालिटी ऑफ एजुकेशन कॉस्ट ऑफ लिविंग और कल्चरल फिट भी आपको चेक कर लेने चाहिए 

अगला स्टेप आता है एप्लीकेशन प्रोसेस 

जिस किसी भी प्रोग्राम के लिए आप जा रहे हैं उसके एप्लीकेशन प्रोसेस और डेडलाइन की समझ आपको होनी चाहिए क्योंकि ज्यादातर देशों में अकडम ट्रांसक्रिप्ट्स लेटर्स ऑफ रिकमेंडेशन स्टेटमेंट ऑफ पर्पस और आइल्स या टॉफल का स्कोर भी देना होता है 

अगर आपकी चॉइस वाला मेडिकल कॉलेज या यूनिवर्सिटी में स्कॉलरशिप है या नहीं इसकी जानकारी आपके पैसे बचा सकती है पर्टिकुलर अगर बात करें यूएसए की तो मास्टर ऑफ सर्जरी की अपनी पढ़ाई के लिए यूएस जा रहे स्टूडेंट को यूनाइटेड स्टेट्स मेडिकल लाइसेंसिंग एग्जामिनेशन देना पड़ता है इसे क्वालिफाई किए बिना आप यूएसए में मेडिकल की पढ़ाई नहीं कर पाएंगे मेडिकल लाइसेंसिंग के लिए यूएस एमएल ई एक थ्री स्टेप एग्जामिनेशन है 

जिससे फिजिशियंस की एबिलिटी ऑफ सेफ एंड इफेक्टिव पेशेंट केयर कांसेप्ट पेशेंट सेंट्रिक स्किल्स और हेल्थ एंड डिजीज से जुड़ी नॉलेज चेक की जाती है यूएस एमएल टेस्ट तीन स्टेप्स में लिए जाते हैं जहां स्टेप वन और स्टेप टू के लिए अलग-अलग से $75 और स्टेप थ्री के लिए $95 की फीस चुकानी पड़ती है और जहां तक बात एग्जाम पैटर्न की तो आप इस लिस्ट को फॉलो कर सकते हैं अमेरिका से अब रुख करते हैं इंग्लैंड का अगर आप यूके में जाकर के मास्टर इन सर्जरी करना चाहते हैं तो आपको प्लैप टेस्ट या प्रोफेशनल एंड लिंग्विस्टिक असेसमेंट बोर्ड टेस्ट क्वालीफाई करना होगा 

इस टेस्ट से यह इंश्योर किया जाता है कि बाहर से इंग्लैंड आकर डॉक्टरी की पढ़ाई करने वाले मेडिकल प्रोफेशनल्स में मेडिकल और मेडिसिन की प्रैक्टिस करने लायक नॉलेज और स्किल्स है या नहीं प्लैब एग्जाम फीस का जिक्र करूं तो 2023 में प्लैब वन की फीस थी 255 ू और प्लैब टू की फीस थी 934 य यूरो को इंडियन करेंसी में कन्वर्ट कर लेंगे तो आपको एक्चुअल कॉस्ट पता लग जाएगी जो ₹1 लाख से तो ज्यादा ही जाएगा 

अगर यूनाइटेड स्टेट्स मेडिकल लाइसेंसिंग एग्जामिनेशन या यूएस एमएल ई और प्लैब पर सेपरेट पोस्ट बनाने की रिक्वेस्ट आई तो उसमें हम इन दोनों एग्जाम्स पर डिटेल डिस्कशन करेंगे उम्मीद है एमसीएच या मगिर किरू गए यानी मास्टर ऑफ सर्जरी पर आपको काफी क्लेरिटी मिल गई होगी 

अगर आप नीट या नीट पीजी की तैयारी कर रहे हैं तो  य्हरेड की पूरी टीम की ओर से ऑल द वेरी बेस्ट पोस्टअच्छी लगी है तो लाइक शेयर और सब्सक्राइब करने की जो रस्म है उसे जरूर से निभा दीजिएगा और साथ ही साथ जिस किसी टॉपिक पर आप पोस्ट चाहते हैं उन्हें लिख भेजिए और थोड़ा इंतजार कीजिए तब तक के लिए मैं संदीप पारिक आपसे कहूंगी मिलेंगे जल्दी ही हमेशा अपने आप को अपडेट रखिए  य्हरेड के साथ धन्यवाद

 

1 thought on “What is MCH in Medical Course?”

  1. The level of my admiration for your work mirrors your own sentiment. The sketch is elegant, and the authored material is stylish. Nevertheless, you appear concerned about the prospect of embarking on something that may be seen as dubious. I agree that you’ll be able to address this issue promptly.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
10 रोचक तथ्य: सोलर सस्ता है फिर भी क्यों नहीं इस्तेमाल करते? 9 Tips to Adopting a Plant-Based Diet 10 Effective Tips to Build Wealth धन बनाए रखने के लिए 10 प्रभावी टिप्स किसी कंपनी में सीईओ (CEO) की भूमिका क्या है? 15 Tips to Grow Your Online Business in 2023 यूपीआई से पैसे गलत जगह गए? जानिए 15 छुपे रहस्यमय तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे! धनतेरस क्यों माना जाता है: 10 छुपे और चौंका देने वाले तथ्य दीपावली: 10 गुप्त और अद्भुत तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे 15 सुपर रहस्यमयी तथ्य: जानिए लड़कियों के प्यार में छिपे संकेत हिंदी गीत एल्बम रिलीज के रहस्य: 10 आश्चर्यजनक तथ्य जो आपको चौंका देंगे