इन पर अपने पैसे लूटना बंद करो | 4 things where an Indian middle class person wasting his money

इन पर अपने पैसे लूटना बंद करो | 4 things where an Indian middle class person wasting his money

इन पर अपने पैसे लूटना बंद करो | 4 things where an Indian middle class person wasting his money

इन पर अपने पैसे लूटना बंद करो | 4 things where an Indian middle class person wasting his money :- साल 2022 के अंदर जब  iphone 70000 के आसपास था लेकिन अब भी इंडिया के अंदर इसे हर कोई अफोर्ड नहीं कर सकता था अब जिनकी इनकम अच्छी खासी थी उन्होंने तो इस फोन को आते ही बाय कर लिया लेकिनकई लोग हाई प्राइसिंग की वजह से अपना मन मार कर रह गए पर फिर एक दिन आती है 

बिग बिलियन डेज की सेल यह सेल यानी कि लगभग पूरे ₹2000000 कम अब ऐसे में वह लोग जो सिर्फ ₹ 45000 के बजट में कोई फोन लेने बैठे थे वह लोग भी बाकी मॉडल छोड़ के iphone’s की ये सेल शुरू हुई तो लोगों ने दबा के ऑर्डर्स किए पर कुछ सेकंड्स में ही अचानक से क्या हुआ सारे फोन आउट ऑफ स्टॉक हो गए 

अब कोई भी इस प्राइस रेंज पर ऑर्डर कर ही नहीं पा रहा था देन फिर जब दोबारा से i स्टॉक में आया तो इस बार इनकी प्राइस 52 से 55000 के बीच में आई तो यहां पर वोह लोग जो इस दिन का बेस सबरी से इंतजार कर रहे थे उन्होंने अपना बजट और थोड़ा बढ़ा दिया और इस डर से तुरंत ही i खरीद लिया कि कहीं और पैसे ना बढ़ जाएं फिर इस पर लेकिन यह सब बातें मैं आपको क्यों बता रहा हूं वेल मैं बता रहा हूं 

क्योंकि ये जो इस तरह का डिस्काउंट और सेल्स का ट्रैप है इसके अंदर फंसने वाले भी हम ही लोगों में से एक है और खासकर एक मिडिल क्लास का इंसान जब भी सेल्स और डिस्काउंट का नाम सुनता है तो वो तो उसकी तरफ खुद ही खींचा चला जाता है 

क्योंकि उसके माइंड में यह रहता है कि डिस्काउंट पर अगर मुझे कोई चीज मिल रही है तो ओबवियसली वहां जाने से मेरा काफी पैसा बच सकता है  यहीं से उनको एक और ट्रैप फसा लेता है जिसे इंपल्सिव बाइंग कहते हैं आप गौर करना कई बार जाने-अनजाने में हम कुछ ऐसी चीजें भी खरीद लेते हैं जो हमारे ज्यादा काम की भी नहीं होती पर क्योंकि वह हमें डिस्काउंट पर मिल रही होती है तो इस डर से हम उसको खरीद लेते हैं कि यह डिस्काउंट खत्म ना हो जाए

लेकिन सवाल यह है कि कंपनीज आखिर इतना डिस्काउंट देती कैसे हैं क्या हम लोग की खुशी के लिए यह अपना नुकसान करवाती हैं तो नहीं ऐसा नहीं है यह सेल्स का गेम किस तरह से काम करता है आपको मैं एक एग्जांपल के थ्रू समझाता हूं 

मान लो मेरा कोई प्रोडक्ट है जि इसको मुझे ₹1 का बेचना है अब मेरे पास इसको बेचने के दो रास्ते हैं पहले तो मैं इसकी एडवर्टाइज  टीवी पर  youtube ads  पर का डिस्काउंट लगाकर उसे ₹2 का कर दूंगा 

जिससे जिन लोगों को भी पहले से ही मेरे प्रोडक्ट के ओरिजिनल रेट्स पता है उनको जब यह पता चलेगा कि मैंने एक लिमिटेड टाइम के लिए 50% पर डिस्काउंट दे रखा है तो लोग इस मौके का पूरा फायदा उठाएंगे और दबा के मेरा प्रोडक्ट खरीदेंगे 

जिससे मेरा प्रॉफिट तो कम होगा लेकिनसेल्स मेरी बहुत बढ़ जाएगी और इनडायरेक्टली मैं इसके थ्रू स्टिल काफी नोट छाप लूंगा तो इस तरह से कंपनीज भी आपको ट्रिक करती हैं जिससे आप ज्यादा से ज्यादा उनके प्रोडक्ट खरीदें अब जो कंपनी पहले से ही काफी पॉपुलर होती है उसके लिए तो ये ट्रिक और ज्यादा काम करती है लेकिन अब इस चीज का सॉल्यूशन क्या है देखो सॉल्यूशन इसका यही है कि पहले तो आपको यह पता होना जरूरी है कि जो भी चीज आप डिस्काउंट पर खरीदने जा रहे हो क्या वाकई में आपको उसकी जरूरत है या इसके बिना भी आपका काम चल रहा है 

अगर आपके माइंड से यह जवाब आता है कि हां इसके बिना भी तो आपका काम चल रहा था तो समझ जाना कि आप इंपल्सिव बाइंग के शिकार होने जा रहे थे ऐसे में खुद के इमोशंस पर कंट्रोल करो और खुद को दूसरे कामों में डिस्ट्रैक्टर लो ताकि आप इस ट्रैप से खुद को सेफ रख पाओ वल अभी तो मैंने आपको सिर्फ एक ही तरीका बताया है जहां पर आप जाने-अनजाने में अपना काफी पैसा लुटा देते हो 

आगे आपको और भी कई ऐसे तरीके जानने मिलेंगे जहां पर आप अननेसेसरी अपना पैसा लगा रहे हो वह पैसा जिनको आप फ्यूचर के लिए बचाकर किसी बुरे टाइम में यूज कर सकते हो 

तो आपको भी अगर अपने पैसों से प्यार है और आप नहीं चाहते कि आपका पैसा कहीं भी अननेसेसरी खर्च हो तो यह पोस्ट बहुत ध्यान से ना क्योंकि जिस तरह इस पहले पॉइंट ने आपकी आंखें खोली हैं वैसे ही बाकी पॉइंट्स भी आपको यह रिलाइज कराएंगे कि आप कितना अननेसेसरी पैसा गवाते जा रहे हो 

सो लेट्स बिगिन अंडरस्टैंड द पावर ऑफ नेगोशिएशन जब मैं छोटा था तो अक्सर में अपनी मॉम के साथ मार्केट जाया करता था तो उस टाइम पर मॉम जब भी कोई सामान खरीदती तो वहां पर वह खूब बारगेनिंग करती ताकि वह सस्ते में उनको मिल जाए और मेरा वहां पर शर्म के मारे यह हाल होता कि मेरा मुंह तक ऊपर नहीं उठ पाता क्योंकि मुझे उनको बर्ग निंग करते देख बहुत अजीब लगता मुझे ऐसा लगता है कि यार मेरी रेपुटेशन खतरे में आ रही है 

लेकिनआगे चलकर मुझे रिलाइज हुआ कि मेरी मॉम के अंदर यह जो नेगोशिएशन की स्किल है आज के टाइम में अपने फाइनेंस को स्टेबल रखने के लिए यह कितनी ज्यादा इंपॉर्टेंट है आपने कई लोग को देखा होगा जो कहीं अगर कुछ खरीदने जाते हैं तो सिर्फ अपना स्टेटस बचाने के लिए वो जरा भी बारगेनिंग करते और मुंह मागी कीमत दे आते हैं फिर बाद में जब उनको उस चीज की एक्चुअल प्राइस का पता चलता है तो वह सर पकड़ कर बैठ जाते हैं और सोचने लगते हैं कि काश मैंने थोड़ा सा मोल भाव कर लिया होता तो इसे लुट कर नहीं आता 

अब चलो ठीक है मान लिया नेगोशिएशन करना हमारे लिए इंपॉर्टेंट है 

लेकिन नेगोशिएशन करना भी तो आना चाहिए यह करें कैसे तो इसके लिए मैं कुछ जरूरी की पॉइंट्स आपको बता रहा हूं इनको ध्यान में रखना देखो प्रोडक्ट और सर्विस आपको पता है दो तरह की होती हैं एक वोह जिनका प्राइस बिल्कुल फिक्स होता है और दूसरी वह जिनका कोई एक प्राइस नहीं होता तो यहां पर आपके पास ऑप्शन है कि यहां कर सकते हो नेगोशिएशन अब कुछ लोग जो थोड़ी बहुत नेगोशिएशन की हिम्मत करते हैं 

उनके साथ कई बार ऐसा होता है कि सेल्समैन का प्राइस जान लेने के बाद जब उन्होंने अपना प्राइस बताया तो दुकानदार ने एक ही बार में हां कर दिया वह बोला ठीक है आप ले सकते हो अब इस सिचुएशन में हमको इतना पस्तावा होता है जिसकी कोई हद नहीं माइंड में बस यही चलता है कि काश और कम बोल होता तो ज्यादा पैसा बच जाता तो देखो इसके लिए सबसे पहले तो आपको रिसर्च करनी है अलग-अलग जगहों से आपको यह पता करना है कि मैक्सिमम जगहों पर यह कितनी प्राइस रेंज में है इससे आपको उसके प्राइस का एक एस्टीमेट पता चल जाएगा जिससे एक जायज अमाउंट पिच करने में आपको आसानी होगी इसके अलावा आपको उस चीज को लेकर एक्साइटेड बिल्कुल नहीं होना है 

दुकानदार को यह शक भी नहीं होना चाहिए कि आपको वह चीज बहुत पसंद आ गई है और कैसे भी करके आप उसको बस खरीदना चाहते हो इसका अगर उसको अंदाजा भी लग गया तो उस चीज को व अपने रेट्स पर बेचने की की हर मुमकिन कोशिश करेगा आप शांत रहेगा और उस चीज को छोड़ने को तैयार रहो अगर प्रोडक्ट की आपके एस्टीमेट जितनी वैल्यू होगी तो आखिर में वह जाते-जाते भी आपको रोक ही लेगा जिससे आपका जो अननेसेसरी पैसा जाने वाला था एटलीस्ट वो सेव हो जाएगा 

फेमस ब्रांड नेम आइटम्स दोस्तों जरा इस वॉच पर नजर डालो ये व स्विस स्टाइल ब्रांड की है और इस वॉच का ऑनलाइन प्राइस ₹ 3369 है अब भले ही इस ब्रांड का नाम आपने पहले कभी ना सुना हो लेकिनइतना तो है कि मैक्सिमम लोग इस वॉच को एटलीस्ट अफोर्ड कर सकते हैं 

लेकिनअब जरा इस वॉच पर नजर डालो लोगो देखते ही आपको पता चल गया होगा कि यह फेमस टाइटन ब्रांड की वॉच है और अगर मैं इसके प्राइस की बात करूं तो इसका ऑनलाइन प्राइस है 995 अब इन दोनों घड़ियों में फर्क क्या है काम तो दोनों का एक ही है टाइम दिखाना लेकिनएक फर्क इसमें यह है कि एक वॉच नॉन ब्रांडेड है और एक बहुत फेमस ब्रांड की वॉच है एक ऐसा फेमस ब्रांड जिसके क्वालिटी प्रोडक्ट्स अगर आप बाहर लेकर निकलोगे तो लोग नोटिस जरूर करेंगे 

आपको अब इसे क्या होगा इससे हम दूसरों के सामने कूल लगेंगे और हमें सेटिस्फैक्ट्रिली लेकिन फिर भी यह सेटिस्फैक्ट्रिली ब्रांडेड चीज खरीद रहे हो अपना स्टेटस बढ़ाने के लिए आप बिल्कुल नहीं चाहोगे कि अगर आपके पास आई है तो उसे नोटिस करने वाले आपको अगले दिन एक पुरानी प्लेटिना बाइक पर देख लें या चलो अगर एक फेमस स्पोर्ट्स बाइक आपने खरीद भी ली तो फिर आपको यह डर रहेगा कि इस बाइक को देखने वाले लोग कहीं मेरे सस्ते कपड़े और बाजार के जूते को ना नोटिस कर लें एंड ऐसे आपके एक्सपेंसेस एक के बाद एक फिर बढ़ते ही चले जाएंगे 

अब देखो मैं यह नहीं कह रहा कि ब्रांडेड कोई भी प्रोडक्ट आप खरीदो ही मत नहीं आप बिल्कुल खरीदो लेकिनतब जब आप उस चीज को अफोर्ड कर सको और वह चीज आपकी करंट मंथली इनकम का मैक्सिमम 30 पर ले रही हो वरना अगर कोई चीज आपके फाइनेंशियल स्टेटस के ऊपर जा रही है ऐसी चीजों के शौक बाल लेना आपको फाइनेंशियलीईएक्सप्रेस  लेवल पर प्रमोशन नहीं कर पा रहा जिसे बड़े-बड़े ब्रांड्स करते हैं 

इसलिए जब तक आप फाइनेंशियल तौर पर स्टेबल नहीं हो जाते आपका पर्पस चीजों से अपने एक्चुअल नीड पूरा करना हो ना कि लोगों में शॉफ करना मतलब आपको सेल्फ इमेज के लिए प्रोडक्ट बाय नहीं करना है उसे यूज करने के लिए बाय करना है और यह काम आप नॉन ब्रांडेड या लेस पॉपुलर प्रोडक्ट के साथ भी कर सकते हो अब अगला पॉइंट इससे थोड़ा सिमिलर है 

लेकिन थोड़ा अलग भी है और यह है ब्रांड न्यू थिंग्स इनको तो आप जानते ही होंगे अनुभव दुबे जो फाउंडर हैं चाय सुट्टा बार कंपनी के आज 2023 में इनकी कंपनी का एनुअल टर्नओवर 130 करोड़ के लगभग है एंड गेस व्हाट अभी इनकी उम्र सिर्फ 28 साल की है अब एक तो यह इतने यंग हैं ऊपर से करोड़ों के मालिक क्या आप इमेजिन कर सकते हैं कि इनकी लाइफ स्टाइल कैसी होगी 

अगर इनकी कंपनी अगर तो करोड़ों में रुपए कमा कर दे रही है तो डेफिनेटली इनकी एक लग्जरी गाड़ी होनी चाहिए एक बहुत बड़ा बंगला होना चाहिए और हर वो फैसिलिटी होनी चाहिए जो अमीरों के पास होती है लेकिनपहले कुछ भी अजमन लगाने से पहले जरा इनकी पोस्ट देख लेते हैं आपकी कौन सी गाड़ी रखी हुई आपने स्फ सर सेकंड हैंड वो डीजल ये सच है हां सर ऑफिस तक जाना है सर क्या स्टंट मार के जाएंगे वहां पे 2 किलोमीटर का ऑफिस है सीखो इनसे बहुत बड़ी क्वालिटी है ये लिटरली इनके पास एक नई कार भी नहीं है और ऐसा भी नहीं है कि वो एक बड़ी कार अफोर्ड नहीं कर सकते पर महंगी कार उनके पास नहीं है क्योंकि उन्हें किसी बड़ी कार की जरूरत ही नहीं है उनका जो काम है वो सेकंड हैंड कार से हो ही जा रहा है और जैसे कि संदीप सर ने कहा ये एक ऐसी क्वालिटी है जो बहुत कम लोगों में देखने मिलती है बिकॉज कुछ लोग जो फाइनेंशली अपनी लाइफ में अभी अच्छा करना शुरू करते हैं तो उनके मन में फिर इच्छाएं जागने लग जाती है कि मैं यह भी खरीदूंगा ने के लिए नहीं अपना काम चलाने के लिए खरीदनी चाहिए और अगर आपका काम एक सेकंड हैंड चीज में भी चल रहा है तो उसमें कोई बुराई नहीं है 

अल्कोहल एंड सिगरेट्स एक लोअर मिडिल क्लास का इंसान अगर महीने के ₹2500000 5000 तो उसके यहीं पर इन्वेस्ट हो जाते हैं और यह वो इन्वेस्टमेंट है जिसके रिटर्न में उसको प्रॉफिट नहीं बल्कि बीमारियां मिलती हैं आप यकीन नहीं करोगे कि सिर्फ इंडिया के अंदर अल्कोहल की टोटल मार्केट 35 बिलियन डॉलर्स है और यस इसका पूरा श्रेय इसको इतने बड़े लेवल पर कंज्यूम करने वालों को ही जाता है 

हम आए दिन सुनते रहते हैं कि शराब की वजह से उस आदमी की डेथ हो गई या टोबैको की वजह से उसको कैंसर हो गया लेकिनफिर भी कंज्यूमर्स की तादाद घटना तो छोड़ो उल्टा और बढ़ने पर है पर यह भी एक ऐसी है बिट है जो आपका पैसा तो कम करती है पर इससे भी ज्यादा हम यहां पर अपने शरीर से खिलवाड़ कर रहे होते हैं तो अगर आपको इन सबकी सालों से एडिक्शन है तो आपको तो इससे छुटकारा पाने के लिए किसी एक्सपर्ट की जरूरत है 

लेकिन अगर आपकी एडिक्शन नई नहीं है तो बिलीव मी आप एक ऐसे ट्रैप में जा रहे हो जहां फाइनेंशली और फिजिकली आपको दोनों तरफ से नुकसान है और अगर प्रूफ चाहिए तो अपना फ्यूचर आप उस इंसान में देख सकते हो जो सालों से इस एडिक्शन से जूझ रहा है तो आई होप ये जितनी भी बातें आज मैंने आपको बताई हैं उन्हें आप कंसीडर करोगे यह पोस्ट अगर आपको पसंद आई हो तो इसको लाइक जरूर करें वैसे रिसेंटली मिडिल क्लास के ऊपर मैंने अभी एक पोस्ट बनाई थी जिसमें मैंने आपको वो एक्चुअल रीजंस बताए थे कि क्यों हम इतनी मेहनत करने के बाद भी आगे नहीं बढ़ पाते उस पोस्ट ने कई लोगों की आंखें खोल दी और उस पर रिस्पांस भी काफी मुझे अच्छा देखने मिला मैं रिकमेंड कर रहा हूं कि अगर आपने वह पोस्ट नहीं देखी तो उसको भी जरूर चेक आउट करना तो मिलते हैं अपनी उसी पोस्ट में तब तक के लिए स्टे सेफ स्टे हेल्दी टेक केयर

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
9 Tips to Adopting a Plant-Based Diet 10 Effective Tips to Build Wealth धन बनाए रखने के लिए 10 प्रभावी टिप्स किसी कंपनी में सीईओ (CEO) की भूमिका क्या है? 15 Tips to Grow Your Online Business in 2023 यूपीआई से पैसे गलत जगह गए? जानिए 15 छुपे रहस्यमय तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे! धनतेरस क्यों माना जाता है: 10 छुपे और चौंका देने वाले तथ्य दीपावली: 10 गुप्त और अद्भुत तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे 15 सुपर रहस्यमयी तथ्य: जानिए लड़कियों के प्यार में छिपे संकेत हिंदी गीत एल्बम रिलीज के रहस्य: 10 आश्चर्यजनक तथ्य जो आपको चौंका देंगे फोल्डेबल स्क्रीन कैसे काम करती है? इस ताजगी से भरपूर जानकारी के साथ!