IIT-JEE Preparation in hindi

IIT-JEE Preparation

हर साल जैसे ही 10वीं और 12वीं के बोर्ड रिजल्ट आते हैं अखबारों का फ्रंट पेज होर्डिंग्स बैनर्स रेडियो ऐड इंटरनेट और सोशल मीडिया लगभग हर एडवरटाइजिंग प्लेटफार्म आईआईटी जेईई की कोचिंग ड से भर जाता है पिछला रिकॉर्ड बताते हुए सभी कोचिंग वाले कोशिश करते हैं कि ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट्स को अट्रैक्ट किया जाए
क्योंकि आईआईटी जेईई देश के टॉप 10 टफेस्ट एग्जाम्स की लिस्ट में आता है इसलिए बच्चे हो या उनके पेरेंट्स तैयारी में कोई कमी कसर नहीं छोड़ते नेशनल टेस्टिंग एजेंसी यह एग्जाम कंडक्ट करवाती है और वह भी साल में दो बार एक बार एंड ऑफ जनवरी से फरवरी फर्स्ट वीक के बीच
दूसरी बार मिड अप्रैल में अच्छी इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन की उम्मीद लेकर हर साल लाखों बच्चे जेईई में रजिस्टर करते हैं नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के अकॉर्डिंग पिछले साल 11 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स ने जेईई मेन दिया था और इस साल जेईई मेन में 12 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन करवाया था
आज इस पोस्ट में आप समझेंगे आईआईटी जेईई की तैयारी कैसे करनी चाहिए चलिए एक्सप्लोर करते हैं अगर एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया की बात की जाए तो एप्लीकेंट्स जो एग्जाम देना चाहते हैं उनका क्लास 12थ या उसकी इक्विवेलेंट क्वालिफिकेशन की जरूरत पड़ती है और वो भी 75% मार्क्स के साथ जनरल कैटेगरी में और 65% मार्क के साथ एससी या एसटी कैटेगरी में 10थ /12थ सिस्टम से अगर आप रेगुलर में क्लास 12थ पास हैं या फाइनल एग्जाम दे चुके हैं किसी रिकॉग्नाइज्ड बोर्ड या यूनिवर्सिटी से 2 साल की प्री यूनिवर्सिटी एग्जाम दे चुके हैं नेशनल डिफेंस अकेडमी के जॉइंट सर्विसेस विंग के 2 साल वाले कोर्स का फाइनल एग्जाम दे चुके हैं तो भी आईआईटी जेईई में आप बैठ सकते हैं क्वालिफिकेशन के ऐसे ढेर सारे पैरामीटर्स आप एनटी की वेबसाइट jeemain.nta.nic पर देख सकते हैं
आईआईटी जेईई के लिए कोई एज लिमिट नहीं है पर एग्जाम देने की लिमिट है बैक टू बैक 3 साल इस कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट में जेईई मेंस का टोटल मार्क्स होता है 300 और मार्क्स तीन सेक्शंस में डिवाइडेड होते हैं मैथमेटिक्स फिजिक्स और केमिस्ट्री हर सेक्शन में 100 मार्क्स होते हैं
तीन घंटे के इस एग्जाम को स्टूडेंट्स इंग्लिश हिंदी एमीज बंगाली, गुजराती ,कनडा ,मराठी ,मलयालम,उड़िया पंजाबी, तमिल, तेलुगु और उर्दू में दे सकते हैं और टाइप ऑफ क्वेश्चंस की बात की जाए तो मल्टीपल चॉइस के सवाल या एमसीक्यू और न्यूमेरिकल वैल्यूज में आंसर लिखने वाले सवाल भी होते हैं फिजिक्स केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स मिलाकर के हर सब्जेक्ट में 30 और टोटल 90 सवाल होते हैं इन 30 सवालों में 10 सवाल होते हैं न्यूमेरिकल वैल्यूज वाले जिनमें पाच को अटेंड करना कंपलसरी होता है हर सही जवाब पर चार मार्क्स दिए जाते हैं और नेगेटिव मार्किंग भी है तो हर गलत जवाब पर एक नंबर काटा जाता है
चलिए अब जब बेसिक्स को समझ ही लिया है आपने तो इसकी तैयारी पर ध्यान देते हैं जो स्टूडेंट इस एग्जाम को सीरियसली लेते हैं वही इसे क्वालीफाई कर पाते हैं क्योंकि जेईई कितना टफ एग्जाम है इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा लीजिए कि जेईई एडवांस्ड 2021 में 90 % कैंडिडेट्स ने 114 यानी कि 114 में से 7 57 सवालों का गलत जवाब दिया था और छह सवाल ऐसे थे जिनका सही जवाब सिर्फ 2 पर स्टूडेंट्स ही दे पाए थे
जैसे कि अपनी डेस्टिनेशन पर पहुंचने के लिए आप googleapis.com जेईई के बीई बीटेक पेपर फर्स्ट का सिलेबस फिजिक्स केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स का होता है और बहुत से टॉपिक्स एनसीआरटी क्लास 11थ और 12थ के सिलेबस से भी होते हैं
इसलिए ज्यादातर स्टूडेंट्स जेईई मेन और एडवांस को क्लियर करने के लिए एनसीआरटी की किताबें मंगवा करके पढ़ते हैं जेईई मेन के फिजिक्स सिलेबस की बात करें तो फिजिक्स एंड मेजरमेंट थर्मोडायनेमिक्स किनेमैटिक्स रेशनल मोशन ग्रेविटेशन वर्क एंड एनर्जी पावर प्रॉपर्टीज ऑफ सॉलिड्स एंड लिक्विड्स लॉज ऑफ मोशन इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज ऑस शंस वेव्स करंट इलेक्ट्रिसिटी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव्स जैसे टॉपिक से सवाल आते हैं
यह तो बस कुछ एक नाम है पर लिस्ट अभी काफी लंबी है इस डायग्राम को ही आप देख लीजिए वहीं केमिस्ट्री के सिलेबस की बात करें तो यह फिजिकल केमिस्ट्री ऑर्गेनिक केमिस्ट्री और इन ऑर्गेनिक केमिस्ट्री इन तीन सेक्शंस का कलेक्शन है बेसिक कॉन्सेप्ट्स इन केमिस्ट्री स्टेट्स ऑफ मैटर केमिकल बॉन्डिंग एटॉमिक स्ट्रक्चर मॉलिक्यूलर स्ट्रक्चर सॉल्यूशंस ऑक्सीजन हैलोजन नाइट्रोजन ऑर्गेनिक कंपाउंड्स बायोम क्यूल्स हाइड्रोजन क्लासिफिकेशन ऑफ एलिमेंट्स पीरियोडिक जैसे टॉपिक से सवाल आते हैं इस चार्ट में कंप्लीट टॉपिक्स मेंशन है और मैथमेटिक्स के सिलेबस में सेट्स रिलेशंस एंड फंक्शंस कॉम्प्लेक्शन मिनें क्वाड्रेटिक इक्वेशंस मैट्रिसेज परमू मिटेश कॉमिनेशन मैथमेटिकल इंडक्शन सीक्वेंस सीरीज जैसे टॉपिक से सवाल आते हैं मैथमेटिक्स में सिंपल और या न्यूमेरिकल प्रॉब्लम्स को सॉल्व कर पाएंगे इसके लिए प्रैक्टिस करना जरूरी है
क्रिएट अ स्टडी प्लान
किसी भी एग्जाम को क्रैक करने के लिए सिर्फ पढ़ाई नहीं प्लानिंग के साथ पढ़ाई करनी भी जरूरी है जैसे आपके स्टडी प्लान में सभी सब्जेक्ट्स और टॉपिक्स इक्वली कवर होने चाहिए अगर किसी सब्जेक्ट में आप कमजोर हैं तो उसमें ज्यादा स्टडी एंड प्रैक्टिस टाइम देना होगा हर सब्जेक्ट के जितने सेक्शंस हैं उनकी नॉलेज आपको बेटर स्कोर करने में मदद करेगी ढेर सारे बुक्स एंड मटेरियल कवर करने के बदले आपका स्टडी मटेरियल ऐसा होना चाहिए जो पीसीएम के सारे टॉपिक्स को कवर करता हो साथ ही फिजिक्स केमिस्ट्री एंड मैथ में आपका इक्वल इंटरेस्ट होना चाहिए
अगर प्रॉब्लम सॉल्विंग या मैथ करने का कोई सिंपल ट्रिक है तो उसे सीखिए क्योंकि स्पीड एंड एक्यूरेसी में आपको बैलेंस बनाकर चलना ही होगा
अब आगे बढ़ते हैं स्टडी मटेरियल के साथ तो फिजिक्स के लिए आप अंडरस्टैंडिंग फिजिक्स बाय डीसी पांडे कॉन्सेप्ट्स ऑफ फिजिक्स यानी वॉल्यूम वन एंड टू बाय एच सी वर्मा फंडामेंटल्स ऑफ फिजिक्स बाय हॉलीडे रेसनिक एंड वॉकर अंडरस्टैंडिंग फिजिक्स बाय फ्रीड मैन एंड यंग प्रॉब्लम्स इन जनरल फिजिक्स बाय आईए आयर दो और एनसीआरटी की क्लास 11थ एंड 12थ टेक्स्ट बुक्स प्रेफर कर सकते हैं
मैथमेटिक्स के सभी टॉपिक्स कवर करने के लिए ऑब्जेक्टिव मैथमेटिक्स बाय आर डी शर्मा अलजेब्रा बाय डॉ एस के गोयल डिफरेंशियल कैलकुलस बाय अमित एम अग्रवाल प्लेन ट्रिग्नोमेट्री फॉर एसएल लोनी और कंप्लीट मैथमेटिक्स फॉर जेईई मेन को पढ़ सकते हैं केमिस्ट्री के टॉपिक्स कवर करने के लिए ऑर्गेनिक केमिस्ट्री में ऑर्गेनिक केमिस्ट्री बाय मॉरिसन एंड वॉइड और ऑर्गेनिक केमिस्ट्री बाय ओपी टंडन इन ऑर्गेनिक केमिस्ट्री के लिए कंसाइनर गनिंग केमिस्ट्री बाय जेडी ली और इन ऑर्गेनिक केमिस्ट्री बाय ओपी टंडन और फिजिकल केमिस्ट्री के लिए फिजिकल केमिस्ट्री बाय ओपी टंडन और फिजिकल केमिस्ट्री बाय पी डब्ल्यू एटकिंस को आप फॉलो कर सकते हैं
लेकिन किसी भी किताब को खरीदने से पहले अपने किसी दोस्त कोई सक्सेसफुल कैंडिडेट और इंस्ट्रक्टर से कंसल्ट जरूर कीजिएगा किताब के ऑथर के बारे में रेटिंग एंड रिव्यूज को भी देख लीजिएगा किताब या टेक्स्ट बुक ऐसी होनी चाहिए जो सिंपल और इजी टू अंडरस्टैंड हो जिनमें अच्छे एग्जांपल हो और सॉल्व करने के लिए न्यूमेरिकल प्रॉब्लम्स भी हो ज्यादा किताबें लेने की जगह एक टॉपिक पे एक या मैक्सिमम दो किताबें आप ले सकते हैं और मोस्ट इंपोर्टेंट आपके पास एनसीआरटी की किताबें तो होनी ही चाहिए
कांसेप्चुअल अंडरस्टैंडिंग की बात करें
तो कोई भी काम करने के लिए अगर आपका लॉजिकल कांसेप्ट एकदम क्लियर होता है तो सक्सेस पाने की संभावना काफी ज्यादा बढ़ जाती है इसलिए आईआईटी जेईई की तैयारी के लिए कांसेप्चुअल अंडरस्टैंडिंग पर आपका फोकस होना ही चाहिए जैसे फिजिक्स में न्यूटंस लॉ ऑफ मोशन कंटिन्यूटी इवेशन इलास्टिसिटी फ्लूइड मैकेनिक्स किनेमैटिक्स रिजिंग बॉडी डायनेमिक्स एनर्जी वर्क एंड पावर ग्रेविटेशन मैग्नेटिज्म ऑप्टिक्स और बर्नोली का सिद्धांत को डिफिकल्ट टॉपिक्स माना जाता है
मॉडर्न फिजिक्स में रेडियो एक्टिविटी एटॉमिक स्ट्रक्चर फोटोइलेक्ट्रिक इफेक्ट न्यूक्लियर फिशन एक्सरे और केमिस्ट्री में इक्विवेलेंट कांसेप्ट इलेक्ट्रो केमिस्ट्री आयोनिक इक्विलियम इन ऑर्गेनिक केमिस्ट्री जैसे टॉपिक्स टफ होते हैं
वहीं मैथमेटिक्स में कॉम्प्लिकेटेड नंबर्स स्टेटिस्टिक्स एंड प्रोबेबिलिटी और अलजेब्रा को डिफिकल्ट माना जाता है इसलिए इनकी अच्छी कांसेप्चुअल अंडरस्टैंडिंग पर आपको काम करना होगा और इतना कुछ जान लेने के बाद सबसे जरूरी है
प्रैक्टिस रेगुलरली कवि वृंद सतसई का एक दोहा है करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान रसरी आवत जात ते शील पर पड़त निशान सीधा सा मतलब यह है कि आईआईटी जेईई के लिए भी आपको प्रैक्टिस करनी होगी क्योंकि बहुत से न्यूमेरिकल प्रॉब्लम्स को सॉल्व करना होता है तो उसके लिए किसी सवाल को सॉल्व करने में कितना टाइम लगेगा उसे ट्रैक करते रहिए और अपने नोटबुक या रफ बुक के साइड में टाइमिंग लिख लीजिए किसी भी प्रॉब्लम को सॉल्व करने के कई तरीके होते हैं और सबसे क्विक तरीका और अननेसेसरी कैलकुलेशंस को अवॉइड करना भी आपका टाइम बचाएगा
कोई सवाल सॉल्व करते समय आपने क्या गलती की उसे नोट कीजिए ताकि अगली बार वही गलती दोहराने से बच सके टाइम मैनेजमेंट की बात की जाए तो हर सब्जेक्ट पर इक्वल टाइम देते हुए आपको टाइम मैनेज करके पढ़ना होगा
आपका यह सवाल हो सकता है कि दिन में कितने घंटे पढ़ेंगे
तो एग्जाम के लिए काफी होगा इसका कोई सही जवाब नहीं है कोई 10 से 12 घंटे भी पढ़ता है तो कोई उससे ज्यादा भी आपको अपनी कैपेसिटी देखनी पड़ेगी एक दिन में 16 से 17 घंटे पढ़ने से बेहतर है कि दिन में 8 से 10 घंटे पढ़ा जाए पर कंसिस्टेंटली इसके अलावा आपकी पढ़ाई पूरी तरह से डिस्ट्रक्शन फ्री होनी चाहिए फोकस के साथ होनी चाहिए ऐसा नहीं कि एक घंटा पढ़े और सोशल मीडिया चलाने लगे नहीं आपको टारगेट लेकर पढ़ाई करनी पड़ेगी तभी क्वालीफाई करने के चांसेस बढ़ेंगे और जहां तक रिवीजन की बात है तो एक छोटा सा एग्जांपल देते हैं
मान लीजिए कि युद्ध होने वाला है तो आप पुराने हथियार में धाड़ चढ़ाएंगे या नया हथियार बनाने बैठेंगे बुद्धिमानी तो यही है कि पुराने हथियार में धार चढ़ाई जाए इसलिए आईआईटी जेईई के लिए रिवीजन उतना ही जरूरी है नए टॉपिक कवर कीजिए पर पिछला वाला भूल ना जाए इसके लिए रिवीजन और प्रैक्टिस भी कीजिए हर दिन पढ़ाई और रिवीजन का आपका स्केड्यूल फिक्स होना चाहिए जो टॉपिक टफ है उनके लिए आपके पास सफिशिएंट टाइम होना चाहिए
रिवीजन में एक और जरूरी काम है पुराने जेईई एग्जाम ए पेपर्स को सॉल्व करना इससे आपको एग्जाम का टेस्ट पता चल जाएगा और जब आप उन्हें सॉल्व करें तो यह समझ कर के कीजिए कि आप रियल एग्जाम दे रहे हैं इससे स्पीड और एक्यूरेसी बढ़ाने में आपको मदद मिलेगी और अगली सबसे इंपॉर्टेंट बात है कि यह सब तभी होगा जब आपका लाइफस्टाइल हेल्दी होगा
क्योंकि आईआईटी जेई का सिलेबस बहुत ही फस्ट होता है इसलिए स्टूडेंट का काफी समय पढ़ाई में निकल जाता है तो ऐसे में फिजिकल और मेंटल हेल्थ दोनों पर काफी असर पड़ता है और इस केस में नींद का पूरा होना भी जरूरी है साथ साथ आपकी मेंटल स्टेबिलिटी भी नींद पूरी नहीं होगी तो आप ना ही कंसंट्रेट कर पाएंगे और ना ही चीजों को मेमोराइज कर पाएंगे मेंटल हेल्थ और फोकस बढ़ाने के लिए आप मेडिटेशन और एक्सरसाइज भी कर सकते हैं
नॉन स्टॉप भी पढ़ते रहने से आंखें थकने लगती है इसलिए आंखों को रिलैक्स करने के छोटे-मोटे ट्रिक्स आजमाते रहिए
हां पढ़ाई के चक्कर में अपनी डाइट से कोई कॉम्प्रोमाइज ना करें खाना ना कम होना चाहिए ना ही ओवरईटिंग होनी चाहिए थोड़ा-थोड़ा खाइए ताकि आपको उबासी ना आए नींद ना आए तो हेल्थ की बात हमने कर ही ली है
अब अगला है सीक गाइडेंस अपनी तैयारी में किसी भी तरह की मदद मांगने के लिए झिझक मत वह कोई सीनियर हो सकता है
आपके दोस्त और टीचर हो सकते हैं या और कोई मेंटर जिसे देखकर आप मोटिवेट होते हैं यह हेल्प सिलेबस समझने से लेकर के प्रॉब्लम सॉल्विंग टाइम मैनेजमेंट मेंटल हेल्थ डिस्कशन प्रॉब्लम शेयरिंग किसी भी तरह की हो सकती है सबसे बड़ा सपोर्ट होगा आपके पेरेंट्स का जिनका बैकबोन बनके खड़ा रहना जरूरी है सेल्फ एनालिसिस की बात करें तो आईआईटी जेईई की तैयारी करते हुए आपके मोटिवेशन से भी ज्यादा जरूरी है आपका डिसिप्लिन यानी कि अनुशासन क्योंकि मोटिवेशन और मोराल तभी डाउन नहीं होगा
जब आप डिसिप्लिन रहेंगे और डिसिप्लिन से ही आती है कंसिस्टेंसी इन सबके साथ खुद की सेल्फ एनालिसिस की आदत भी आपको डालनी होगी यह मुझसे क्यों नहीं हुआ कहां कमी रह गई है मैं कहां पर गलतियां कर रही हूं क्या मैं यह कर लूंगी इस तरह की जवाबदेही भी आपको खुद से करनी पड़ेगी क्योंकि आपको और आपकी काबिलियत को आपसे बेहतर कोई नहीं जानता और दूसरी सबसे इंपॉर्टेंट बात है कि खुद को किसी से कंपेयर ना करें इससे आप अपनी वैल्यू खोने लगते हैं तो फिर अच्छी लाइन क्या हो सकती है यही कि अगर कंपैरिजन और कंपटीशन करना ही है तो अपने आप से करें
बेहतर और बेहतर आगे बात करते हैं प्रैक्टिस मॉक टेस्ट पेपर्स के बारे में आईआईटी जेई के लिए आपकी तैयारी कितनी हुई है यह जानने का सबसे बढ़िया तरीका है मॉक टेस्ट देना अगर आप फेल भी हो जाते हैं तो दोबारा दीजिए इससे एग्जाम परफॉर्मेंस भी बढ़ता है और आपका प्रिपरेशन किस लेवल का है यह आप रिलाइज कर पाते हैं टॉपिक वाइज भी आपकी क्लेरिटी बढ़ती है कि आप किस टॉपिक में अच्छे हैं और कहां ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है
अब सबसे बड़ा सवाल आता है कि क्या आईआईटी जेई के लिए कोचिंग लेना जरूरी है
वेल यह एक पर्सनल चॉइस है देश भर में हजारों लाखों बच्चे सेल्फ स्टडी के साथ कोचिंग भी लेते हैं जहां उन्हें गाइडेंस मिलती है ताकि वह अपने कमजोर साइट्स को बेहतर कर सके लेकिन बिना कोचिंग के भी आईआईटी जेईई क्वालीफाई किया जा सकता है जैसे दिल्ली की स्टूडेंट अवनी कुमार ने बिना किसी कोचिंग के ही 2 22 में जेईई एडवांस्ड क्वालीफाई करते हुए 95 लाख स्टूडेंट्स के बीच 10000 के अंदर रैंक सिक्योर किया था वहीं साल 2011 में गिरी डी झारखंड के स्टूडेंट अंकित जालान ने भी सिर्फ सेल्फ स्टडी करते हुए ऑल इंडिया रैंक 45 हासिल की थी तो बिना कोचिंग के आईआईटी जेईई तैयारी करने के फंडे भी जान लीजिए
बिना कोचिंग के आईआईटी जेईई से क्रैक करना है तो आपको जेईई मेन सिलेबस के सभी टॉपिक्स कवर करने होंगे आपके पास आपका पर्सनल प्रिपरेशन प्लान होना चाहिए जिसे अब तक हम डिस्कस कर रहे थे आपके पास क्वांटिटी में नहीं क्वालिटी में स्टडी मटेरियल होने चाहिए जिसमें एनसीआरटी की किताबें आप गलती से भी मिस नहीं कर सकते एक अच्छा आईआईटी जेईई एस्परेंस हमेशा अपने पास क्विक स्टडी वाले नोट्स रखता है शॉर्ट मेथड्स और स्ट्रेटेजी हमेशा आपको एडवांटेज देंगे तो उनके साथ दोस्ती कर लीजिए
बेसिक कांसेप्ट क्लियर रहेगा तो हर सवाल का जवाब दे पाएंगे और कोशिश कीजिएगा कि हाई वेटेज टॉपिक्स का आंसर करें ताकि ज्यादा मार्क्स कैरी कर सके शुरुआत से ही लास्ट ईयर के एग्जाम पेपर को सॉल्व करने की आदत डाल लेंगे तो फायदे में रहेंगे और एग्जाम के कुछ दिन पहले सभी टॉपिक्स को रिवाइज करना ना भूले लेकिन कोचिंग क्लासेस को लेकर के मिनिस्ट्री ऑफ एजुकेशन ने जनवरी महीने में जो नई गाइडलाइंस निकाली है 2024 में उसके अकॉर्डिंग अब 16 साल से कम उम्र के बच्चे कोचिंग इंस्टिट्यूट नहीं जवाइन कर पाएंगे कोचिंग इंस्टिट्यूट जाने वाले बच्चों का क्लास 10 पास होना जरूरी है
कोई भी कोचिंग इंस्टिट्यूट अंडर ग्रेजुएट ट्यूटर्स को अपॉइंट्स ूट्स अच्छे मार्क्स या अच्छी रैंकिंग दिलवाने के मिस डिंग इंफॉर्मेशन नहीं दे पाएगा या प्रॉमिस नहीं कर पाएंगे साथ ही कोचिंग सेंटर्स को अपनी वेबसाइट पर टीचर्स और ट्यूटर्स के क्वालिफिकेशन कोर्सेस और करिकुलम कोर्स कंप्लीट होने की ड्यूरेशन हॉस्टल फैसिलिटी और कितनी फीस ली जाएगी इनके अपडेटेड डिटेल्स पब्लिश करने होंगे इंडिया में पेरेंट्स के बीच यह कॉमन परसेप्शन है कि अगर बच्चा साइंस से क्लास 12थ पास हुआ है तो उसे मेडिकल या इंजीनियरिंग में भेजा जाएगा और डॉक्टर या इंजीनियर बनाया जाए पर एक बार अपने बच्चे से उस स्टूडेंट और कैंडिडेट से भी पूछ लेना चा चाहिए कि वह करना क्या चाहता है या वह कितना कैपेबल है क्योंकि अक्सर पैरेंटल और पियर प्रेशर में भी बच्चे आईआईटी जेई के लिए आगे बढ़ जाते हैं
क्योंकि आईआईटी जेईई जैसा टफ एग्जाम आप प्रेशर में प्रिपेयर नहीं कर सकते आईआईटी जेईई की तैयारी करने वाले हर स्टूडेंट को यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि यह एग्जाम एक मैराथन है कोई स्प्रिंट नहीं इसलिए कंसिस्टेंट एफर्ट और एक डिसिप्लिन अप्रोच ही आपको आपके लक्ष्य के और करीब ले जाएगी यह पोस्ट आपको कैसी लगी जानकारी आपको कैसी लगी आप अपनी तरफ से क्या कहना चाहते हैं कोई एक्सपीरियंस शेयर करना चाहते हैं या कोई टिप शेयर करना चाहते हैं तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें जरूर बताएं साथ ही इस पोस्ट को लाइक ऑलरेडी कर दिया है तो शेयर करना बिल्कुल ना भूलें और आज हमारे जो भी नए गेस्ट हैं जितने भी नए लोग आज हमसे जुड़े हैं उनसे रिक्वेस्ट है कि य्हरेड वेबसाइट को सब्सक्राइब करके बेल आइकॉन प्रेस कर दीजिए ताकि ऐसे टॉपिक्स आप कभी भी मिस ना करें जो आपको गाइड करते हैं और आपकी ग्रोथ में बहुत बड़ा सपोर्ट होते हैं तो मिलेंगे ऐसे ही और ऐसी जानकारियों के साथ तब तक के लिए संदीप आपसे कहेगी धन्यवाद

4 thoughts on “IIT-JEE Preparation in hindi”

  1. Thank you for reaching out! If you have any specific questions or topics in mind, please feel free to share them, and I’ll do my best to assist you. Whether you’re curious about a particular technology, scientific concept, literary work, or anything else, I’m here to provide information, advice, or engage in a discussion. Don’t hesitate to let me know how I can help you further!

  2. I loved as much as you will receive carried out right here The sketch is attractive your authored material stylish nonetheless you command get got an impatience over that you wish be delivering the following unwell unquestionably come more formerly again since exactly the same nearly a lot often inside case you shield this hike

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
10 रोचक तथ्य: सोलर सस्ता है फिर भी क्यों नहीं इस्तेमाल करते? 9 Tips to Adopting a Plant-Based Diet 10 Effective Tips to Build Wealth धन बनाए रखने के लिए 10 प्रभावी टिप्स किसी कंपनी में सीईओ (CEO) की भूमिका क्या है? 15 Tips to Grow Your Online Business in 2023 यूपीआई से पैसे गलत जगह गए? जानिए 15 छुपे रहस्यमय तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे! धनतेरस क्यों माना जाता है: 10 छुपे और चौंका देने वाले तथ्य दीपावली: 10 गुप्त और अद्भुत तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे 15 सुपर रहस्यमयी तथ्य: जानिए लड़कियों के प्यार में छिपे संकेत हिंदी गीत एल्बम रिलीज के रहस्य: 10 आश्चर्यजनक तथ्य जो आपको चौंका देंगे