how to overcome failure,how to overcome fear of failure,failure,overcome failure,how to overcome failure in life,how to deal with failure,how to overcome,overcome fear of failure,how to overcome failures?,failures,how to overcome failure in math,how to overcome failures in life,how to overcome the fear of failure,how to overcome failure in business,how to stop fear of failure,fear of failure,how to overcome failure & learn from your mistakes

How to Overcome Failure?

How to Overcome Failure? :- अक्सर हम सक्सेस की बात करते हैं तो सोचा कि क्यों ना आज फेलियर के बारे में बात की जाए क्योंकि फेलियर भी तो नेचुरल ही होती है अब भले ही हम उसे नेचुरल समझना ही ना चाहते हो असल में फेलियर हमारी जिंदगी का एक बहुत ही इंपॉर्टेंट पार्ट है कह लीजिए कि अनिवार्य पार्ट है और हम में से हर किसी ने किसी ना किसी पॉइंट पर फेलियर को एक्सपीरियंस भी किया है 

हमने इसे इतने नेगेटिव इमोशंस और डिसपिटर जोड़ रखा है कि हम इसके बारे में बात तक नहीं करना चाहते लेकिन बात करना तो जरूरी है ना दोस्तों क्योंकि यही फेलियर अपॉर्चुनिटी भी तो होती है लर्निंग की ग्रोथ की और सेल्फ इंप्रूवमेंट की अपॉर्चुनिटी जिसने भी फेलियर के इस एस्पेक्ट को जाना है उस इंसान ने और उस ऑर्गेनाइजेशन ने फेलियर को स्टेपिंग स्टोंस की तरह यूज करके अपने गोल्स को अचीव किया है ऐसे में फेलियर से डरना और फेल हो जाने पर सक्सेस की उम्मीद छोड़कर हताश हो जाना क्या सही होगा नहीं ना 

तो यह तो हमें इन सक्सेसफुल लोगों के बारे में जान कर के ही पता चलेगा जैसे कि वल्ट डिजनी जो वल्ट डिजनी कंपनी के फाउंडर थे और आइकॉनिक कैरेक्टर मिक्की माउस के क्रिएटर भी आपको क्या लगता है वह बस यूं ही सक्सेसफुल हो गए होंगे बिल्कुल भी नहीं अपनी इस रिमार्केटिंग को फेस किया था इसी तरह थ्योरी ऑफ रिलेटिविटी e = एसी स्क्वा देने वाले अल्बर्ट आइंस्टाइन और फेलियर के कनेक्शन को भी देख लीजिए वह हमेशा से जीनियस थे पर यह दुनिया को बहुत देर से पता चला उनके पेरेंट्स को तो वह एक स्लो लर्नर और एंटी सोशल पर्सन लगा करते थे तो टीचर्स का मानना था कि वह अपनी जिंदगी में कुछ भी खास नहीं कर पाएंगे 

लेकिन बचपन से फेलियर को अपने साथ लेकर घूमते हुए आइंस्टाइन ने फिजिक्स में नोबेल प्राइज जीता वह ऐसा कैसे कर पाए जरूर उन्होंने अपने फेलियर को अपनी रियलिटी नहीं माना और फेलियर से डरने की बजाय उनका इस्तेमाल सक्सेसफुल होने में किया और उसका रिजल्ट हम सबके सामने ही है आपको पता है थॉमस एलवा एडिसन डिसलेक्सिक थे उनके टीचर्स को लगता था कि वह तो कभी भी कुछ सीख ही नहीं पाएंगे 

लेकिन उनके गिव अप ना करने के एटीट्यूड को देख लीजिए बिना स्ट्रांग एजुकेशनल सपोर्ट के उन्होंने लाइट बल्ब बना दिया तो क्या यह सक्सेस उन्हें फर्स्ट अटेंप्ट में ही मिल गई थी बिल्कुल भी नहीं बल्कि इस सक्सेस के पीछे उनके बहुत सारे फेल्ड अटेम्प्ट्स थे उनके नाम 1093 यानी 1093 पेटेंट्स है जिनमें बल्ब फोटोग्राफ मोशन पिक्चर कैमरा टाइप राइटिंग मशीनस और टेलीफोन जैसे ढेर सारे ऐसे इंवेंशंस हैं जिनके बिना आज हम रह नहीं सकते और देखिए आज उनका नाम वर्ल्ड के बेस्ट इन्वेस्टर्स में शामिल है लेकिन सवाल यह है कि बहुत बार फेलियर मिलने के बावजूद भी यह सब कैसे किया उन्होंने तो फेलियर से सीखकर और हार नहीं मानने की जिद रखकर कर अब आप चाहे तो जेके रोलिंग का एग्जांपल देख लीजिए हैरी पॉटर सीरीज की ऑथर रोलिंग की यह जर्नी क्या शुरू से ही सक्सेसफुल थी बिल्कुल भी नहीं उन्होंने अपनी लाइफ के टफ टाइम में गरीबी और डिप्रेशन के बीच अपने हार्ड वर्क और पेशेंस के दम पर खुद को यूके की रिचेस्ट वमन में शामिल कर लिया हमें लगता है कि उन्हें तो तुरंत ही सक्सेस मिल गई होगी लेकिन नहीं वह 12 मेजर पब्लिकेशंस के पास गई 

लेकिन सबने उनकी हैरी पॉटर सीरीज को रिजेक्ट कर दिया वह चाहती तो इसे अपना बहुत बड़ा फेलियर समझकर रुक जाती और पता नहीं कितना बुरा कुछ कर चुकी होती लेकिन नहीं वह लगातार कोशिश करती रही पब्लिकेशंस को अप्रोच करती रही और फिर जाकर एक स्मॉल पब्लिकेशन ने उनकी स्क्रिप्ट को पब्लिश किया और उसके बाद इस बुक को इतनी ज्यादा सक्सेस मिलती चली गई कि इसे ब्रिटिश बुक अवार्ड जैसे कई सारे अवार्ड्स भी मिले और आगे डॉर अब्दुल कलाम की जर्नी की बात करें तो वह भी कुछ ऐसी ही थी एक गरीब परिवार में जन्म लेने वाले स्कूल के बाद न्यूजपेपर्स बेचकर पिता की मदद करने वाले अब्दुल कलाम चाहते तो इसी को अपनी डेस्टिनी समझ लेते लेकिन नहीं अपने हार्ड वर्किंग एटीट्यूड और मैथमेटिक्स के लिए अपने रुझान को साथ लेकर चलते हुए वह डीआरडीओ के साइंटिस्ट की पोजीशन तक पहुंच गए और प्रेसिडेंट ऑफ इंडिया भी बने वह ऐसा कैसे कर पाए अपने इरादों पर यकीन रखकर और फेलियर को सही तरह हैंडल करके इसी तरह बात चाहे धीरू भाई अंबानी की हो या सुपरस्टार रजनीकांत या अमिताभ बच्चन की इन सबने और इनके जैसे बहुत से और सक्सेसफुल लोगों ने अपनी लाइफ के टफ टाइम से डरने की बजाय उसका सामना किया है 

उससे सीखकर सक्सेस का रास्ता बनाया है और आज पूरी दुनिया इन्हें सक्सेसफुल स्टारस समझती है और इन्हें फॉलो भी करना चाहती है लेकिन अब आप यह तो जान ही गए होंगे कि यह सब बस यूं ही सक्सेसफुल नहीं हो गए इनके हार्ड वर्क डिटरमिनेशन और फेलियर को अपनी हकीकत ना स्वीकारने की जिद ने इन्हें सक्सेसफुल बना आया है क्योंकि इनका मानना रहा है कि कोई भी गोल ऐसा नहीं हो सकता जिसे कि अचीव ना किया जा सके यह सच है कि कोई फेल नहीं होना चाहता लेकिन अगर हम इस बात को अच्छे से समझ ले कि फेलियर एक बहुत ही नेचुरल ह्यूमन इमोशन है जो बहुत से साइकोलॉजिकल सोशल और इवोल्यूशनरी रीजंस की वजह से होता है और यह आपकी लाइफ की पूरी सच्चाई नहीं होती बल्कि एक फेज होती है जिसे पार करके हम सक्सेस तक पहुंच सकते हैं तो अब यह जानने के बाद फेलियर के डर से निकलना तो और भी आसान हो सकता है और यह तो पक्की बात है कि इस टाइम आप जहां कहीं किस मोड़ पर है जितनी नॉलेज है आपकी जो कुछ आपने किया है वहीं से आप अभी भी सक्सेस तक पहुंचना चाहते हैं है ना तो फिर अब ऐसे 11 सिंपल और इफेक्टिव टिप्स को भी जान लीजिए जो फेलियर के फियर से ओवरकम करने में आपकी पूरी पूरी मदद करेंगे 

 

टिप नंबर एक है फेलियर को रिफ्रेम करिए 

अभी तक फेलियर के बारे में आप जो कुछ भी सोचते थे अब अब उसे बदल दीजिए और फेलियर के बारे में अपना नजरिया फिर से बनाइए इसे सेल्फ वर्थ से मत जोड़िए लो सेल्फ एस्टीम से भी नहीं बल्कि इसे एक ऐसे वैल्युएबल लर्निंग एक्सपीरियंस की तरह देखना शुरू कीजिए जो आपको ग्रोथ और इंप्रूवमेंट की अपॉर्चुनिटी देता है 

टिप नंबर दो है रियलिस्टिक गोल्स बनाइए 

फेलियर का एक रीजन अनरियलिस्टिक गोल्स भी होते हैं जिन तक पहुंचना हमारे लिए पॉसिबल नहीं होता लेकिन खुद से हाई एक्सपेक्टशंस की वजह से हम ऐसे गोल्स बना लेते हैं और फिर फेल हो जाते हैं अब इस सिचुएशन को अवॉइड करना है तो अपनी पहुंच में आने वाले रियलिस्टिक गोल्स को बनाना शुरू करें हां हो सकता है वह छोटे होंगे अभी लेकिन वो छोटे-छोटे गोल्स जैसे ही पूरे होंगे तो वो बड़ा गोल जो अभी आप सोच रहे हैं लेकिन अभी डिफिकल्ट है थोड़ा अनरियलिस्टिक है वो रियलिस्टिक होगा थोड़ा सा टाइम दीजिए गोल्स को डिवाइड कीजिए छोटे-छोटे स्टेप एक बार में पहाड़ चढ़ना मुश्किल है हां लेकिन रोज कोशिश करेंगे तो हम चढ़ जाएंगे आई होप आप समझ रहे हैं 

टिप नंबर तीन ग्रोथ माइंडसेट अपनाए 

अगर यह यकीन रखा जाए कि एफर्ट्स और लर्निंग के जरिए एबिलिटीज और इंटेलिजेंस को डेवलप किया जा सकता है तो मिस्टेक से लर्न करना और फ्लेक्सिबल रहते हुए आगे बढ़ना आसान हो जाता है और ऐसा यकीन रखने के लिए ऐसा सोच पाने के लिए ग्रोथ माइंडसेट का होना जरूरी है तो फिर आप भी अभी से अपने फिक्स्ड माइंडसेट को ग्रोथ माइंडसेट में बदलना शुरू कर दीजिए 

टिप नंबर चार सक्सेस को डिफाइन करिए 

सक्सेस का मतलब हर एक के लिए अलग-अलग हो सकता है ऐसे में आपको यह पता होना चाहिए कि आप क्या अचीव करना चाहते हैं और आप कैसे अपनी सक्सेस को मेजर करेंगे यह जानने से आपको फेलियर को डिफाइन करने और उससे जल्द से जल्द बाहर निकलने में भी मदद मिलेगी इसलिए पता लगाइए सोचिए समझिए कि आपके लिए सक्सेस क्या है इवन अगर आपको कुछ समझ में आ रहा है जो आपके हिसाब से है तो प्लीज कमेंट सेक्शन में हमें जरूर बताइए 

टिप नंबर पांच कॉन्फिडेंस और कमिटमेंट साथ रखिए 

सक्सेसफुल होना हो या फेलियर से डील करना हो आपका कॉन्फिडेंस और जीत के लिए कमिटमेंट ही आपका सबसे बड़ा मददगार बन सकता है इसलिए भले ही सक्सेस के रास्ते कठिनाई भरे लग रहे हो आप अपनी एबिलिटीज पर कॉन्फिडेंस बनाए रखें और अपने गोल्स को अचीव करने के लिए कमिटमेंट भी शो करें आपको सक्सेस जरूर मिलेगी 

टिप नंबर छह एफर्ट्स पर फोकस करें 

अभी तक अगर आपने अपना फोकस फेलियर पर टिका रखा था तो अब इसे शिफ्ट करके एफर्ट्स पर लगाइए ताकि आप हार्ड वर्क करने और डेडिकेशन के साथ परफॉर्म करने की अपनी स्ट्रेंथ को समझ पाएं और फेलियर का डर आपके कॉन्फिडेंस और इरादे को दबा ना पाए 

टिप नंबर सात फेलियर को नॉर्मलाइज करिए 

अक्सर फेलियर को हम बड़ा ही हवा बना लेते हैं जबकि यह तो एक कॉमन एक्सपीरियंस होता है जिसे आसानी से एक्सेप्ट किया जाना चाहिए हां वैसे हम आपकी बात भी मानते हैं कि आसपास हमें लोगों ने यह नहीं सिखाया हमें फैमिली में यह नहीं सिखाया गया कि फेल होना बहुत बड़ी बात नहीं है 

लेकिन कोई बात नहीं ना अगर आपको आज पता चल रहा है तो आज एक्सेप्ट कर लीजिए व कहते हैं ना जब जागो तभी सवेरा देर सही दुरुस्त तो कुछ ऐसा ही समझ लीजिए और जब यह बात आपने समझ ही ली है तो आपको फेलियर को एक्सेप्ट करना है और इसे नॉर्मल समझना है और जब आप ऐसा कर पाएंगे तो इसके डर से आपको झुज भी कम ही पड़ेगा ऐसे में आप सक्सेस के एफर्ट्स पर पूरा जोर लगा पाएंगे 

टिप नंबर आठ फेलियर से सीखिए 

फेलियर का दुख मनाने की बजाय उसे एक्सेप्ट करके उससे सीखने की जरूरत होती है ताकि पता चल सके कि क्या गलत हुआ है उसे कैसे सही किया जा सकता है और कैसे इसे रिपीट होने से भी रोका जा सकता है 

टिप नंबर नौ सक्सेस को विजुलाइज करिए 

भले ही आप लाइफ का टफ फेज देख रहे हो जहां पर सक्सेस मिलना एकदम मुश्किल लग रहा हो लेकिन आप सक्सेस को विजुलाइज करना तब भी मत छोड़िए अपने एफर्ट्स के साथ-साथ अगर आप पॉजिटिव विजुलाइजेशन भी करते रहेंगे तो आपका कॉन्फिडेंस फिर से बिल्ड होने लगेगा और फियर कम होता जाएगा 

टिप नंबर 10 प्रोग्रेस को सेलिब्रेट करें 

अब यह जरूरी नहीं है कि आप बहुत बड़े अचीवमेंट का इंतजार करें और तभी अपनी सक्सेस को सेलिब्रेट करें क्योंकि सक्सेस की प्रोग्रेस को हर एक स्टेप को इंपॉर्टेंस देते हुए उसे सेलिब्रेट करने से खुद पर यकीन बढ़ता है गोल्स को अचीव करने का डिटरमिनेशन और भी ज्यादा स्ट्रंग होता है और ग्रोथ माइंडसेट मेंटेन रख पाना पॉसिबल हो जाता है 

टिप नंबर 11 मदद लीजिए 

अकेले अपने फियर्स से डील करने में मत उलझे रहिए अपने डर को अपने ट्रस्टेड दोस्तों फैमिली मेंबर्स या मेंटर्स के साथ शेयर करिए ताकि वह आपको एंकरेज कर सके और उनकी एडवाइस और सपोर्ट से आप सेम सिचुएशन को पॉजिटिव पर्सपेक्टिव से देख सके और इस तरह इन सिंपल से 11 टिप्स को याद रखकर आप खुद को यह समझा सकते हैं कि फेलियर की फियर से बाहर बाहर निकलना एक ग्रैजुअली प्रोसेस है फेलियर को एक नॉर्मल इमोशन समझकर और सक्सेस की जर्नी का एक पार्ट समझकर आसानी से हैंडल किया जा सकता है आपको ना बस पेशेंस रखना होगा यानी कि बहुत सारा धैर्य और खुद पर यकीन भी कि आप बेहतरीन है और अपने गोल्स को अचीव करने का दम भी रखते हैं बस उसके बाद ना सब कुछ अपने आप होता चला जाएगा और सक्सेस आपको जरूर मिलेगी इसी के साथ यह पोस्ट तो यहीं पर खत्म होता है 

लेकिन आपका कोई पर्सनल एक्सपीरियंस है कि आपने कैसे ओवरकम किया फेलियर से तो प्लीज आप अपना वो पर्सनल एक्सपीरियंस हमारे साथ जरूर शेयर करें यह जानकारी आपको कैसी लगी उसके लिए अपना प्यार और सपोर्ट हमें जरूर शेयर करें कमेंट सेक्शन में हमारी पूरी टीम के लिए बिकॉज हमारे लिए असली मोटिवेशन होता है आपके कॉमेंट्स आपका प्यार आपका सपोर्ट ताकि हम आप जो भी टॉपिक्स हमें सजेस्ट करते हैं जो भी सवाल पूछते हैं उस पर पूरी टीम रिसर्च करके मेहनत करके पोस्ट बनाती है और आप तक लेकर आती है तो यह सिलसिला रुकना नहीं चाहिए वैसे लाइक आपने ऑलरेडी कर दिया है तो लगे हाथ अगला काम जो आपको बिना बोले करना है और वह है कि आपको भर भर के शेयर करना है एगजैक्टली जितना ज्यादा हो उतना ही कम तो इंस्पिरेशन आपको मिली है तो इसे औरों तक पहुंचाए और कोई सवाल है वह आप हम तक पहुंचाए जितने नए लोग हैं उनसे रिक्वेस्ट है कि हमारे य्हरेड वेबसाइट को सब्सक्राइब करके बेल आइकन को प्रेस कर दीजिए ताकि यह सिलसिला हमेशा यूं ही चलता रहे तो संदीप आपसे कहेगी फिलहाल के लिए मिलेंगे जल्दी ही धन्यवाद

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
9 Tips to Adopting a Plant-Based Diet 10 Effective Tips to Build Wealth धन बनाए रखने के लिए 10 प्रभावी टिप्स किसी कंपनी में सीईओ (CEO) की भूमिका क्या है? 15 Tips to Grow Your Online Business in 2023 यूपीआई से पैसे गलत जगह गए? जानिए 15 छुपे रहस्यमय तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे! धनतेरस क्यों माना जाता है: 10 छुपे और चौंका देने वाले तथ्य दीपावली: 10 गुप्त और अद्भुत तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे 15 सुपर रहस्यमयी तथ्य: जानिए लड़कियों के प्यार में छिपे संकेत हिंदी गीत एल्बम रिलीज के रहस्य: 10 आश्चर्यजनक तथ्य जो आपको चौंका देंगे फोल्डेबल स्क्रीन कैसे काम करती है? इस ताजगी से भरपूर जानकारी के साथ!