4 Ayurvedic Rules For A Healthy Life

हमेशा स्वस्थ रहने के लिए आयुर्वेद के चार नियम | 4 Ayurvedic Rules For A Healthy Life

हमेशा स्वस्थ रहने के लिए आयुर्वेद के चार नियम | 4 Ayurvedic Rules For A Healthy Life

4 Ayurvedic Rules For A Healthy Life
4 Ayurvedic Rules For A Healthy Life

एक ऋषि जो प्राचीन आयुर्वेद और योग के विशेषज्ञ थे, वह शहर के बाहर एक स्वनिर्मित झोपड़ी में रहते थे। एक दिन उस शहर का सबसे अमीर आदमी उनके आश्रम में आता है। वह अमीर आदमी बीमार लग रहा था 

उसने आते ही साधु को प्रणाम किया और धीमी, दर्द भरी आवाज में कहने लगा साधु, मैं इस शहर का सबसे अमीर व्यापारी हूं मेरे पास धन-संपत्ति की कोई कमी नहीं है लेकिन मैं अपने शरीर से खुश नहीं हूं। 

अक्सर कोई न कोई बीमारी मुझे घेर लेती है जिसके कारण मैं हर चीज के बाद भी परेशान और दुखी रहता हूं तो क्या आप मुझे अपने आयुर्वेदिक खजाने से बता सकते हैं, कुछ सरल और संक्षिप्त नियम जिनका पालन करके मैं स्वस्थ जीवन जी सकता हूँ 

साधु ने व्यापारी की बात ध्यान से सुनी। और फिर कहने लगे आयुर्वेद में कहा गया है कि जिस व्यक्ति को स्वस्थ रहना है उसे हमेशा अपने शरीर के वात कफ और पित्त को संतुलित रखना चाहिए। 

हमारा शरीर ‘त्रिदोष‘ पर आधारित है कोई भी बीमारी इन तीन 

  • दोषों वात दोष, 
  • पित्त दोष 
  • कफ दोष 

दोष के कारण ही होती है जब वात बहुत ज्यादा खराब हो जाता है तो 80 से ज्यादा बीमारियाँ आती हैं जब शरीर में पित्त खराब हो जाता है तो होने की संभावना अधिक हो जाती है 46 रोग बढ़ जाते हैं और कफ बिगड़ने पर 28 से अधिक रोग हो जाते हैं। 

अगर वात पित्त और कफ तीनों बिगड़ जाएं तो शरीर में 148 से ज्यादा बीमारियां हो जाती हैं। सर्दी, खांसी, दस्त से लेकर बड़ी से बड़ी बीमारियां भी शरीर में वात, पित्त और कफ के बिगड़ने से ही होती हैं।

इतना कहकर ऋषि कुछ देर तक चुप रहे। और फिर कहने लगे भारत के महान आयुर्वेद चिकित्सकों में से एक महर्षि वाग्भट्ट ने अपनी रचना अष्टांग हृदयम् और अष्टांग संग्रह दोनों में शरीर की कार्यप्रणाली को समझने और उसे स्वस्थ रखने के लिए 7000 नियम बताए हैं जिनमें से 4 नियम बहुत ही महत्वपूर्ण हैं शरीर में वायु, पित्त और फक को संतुलित रखना जरूरी है।

आज मैं आपको बताता हूं कि आपके शरीर में वात कफ और पित्त तीनों संतुलित रहते हैं। इसके लिए सबसे पहला नियम है कि खाने के तुरंत बाद पानी न पियें। 

महर्षि वाग्भट कहते हैं कि खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीना जहर पीने के समान है व्यक्ति ने कहा लेकिन ऋषिवर क्यों? ऋषि ने कहा कि हम जो भी खाते हैं वह हमारे पेट में एक जगह इकट्ठा हो जाता है। 

जिसे संस्कृत में या हिंदी में ‘जठर‘ कहा जाता है, कुछ लोग इसे पेट (अमाशय) कहते हैं। अब जैसे ही हमारा भोजन पेट में पहुंचता है, पेट इस भोजन को पचाने के लिए एंजाइम स्रावित करता है। जिसे गैस्ट्रिक भी कहा जाता है अब यहां हमारा भोजन एसिड के माध्यम से चलता है जिसे साधारण भाषा में लोग पाचन कहते हैं लेकिन अगर हम खाने के तुरंत बाद पानी पीते हैं तो यह हमारी जठर अग्नि को शांत करता है यानी कि।  

एसिड पानी में घुलकर पतला हो जाता है जिससे इसकी सक्रियता कम हो जाती है और हमारा खाना ठीक से पच नहीं पाता बल्कि पेट में पड़ा-पड़ा सड़ जाता है और फिर यही सड़ता हुआ खाना पेट में 100 से ज्यादा जहर पैदा करता है। जो मानव शरीर में 80 से अधिक बीमारियों का कारण बनते हैं। 

गैस बनना, एसिडिटी और पेट फूलना जैसी समस्या केवल उन्हीं को होती है जिनका खाना ठीक से नहीं पचता है और खाना ठीक से नहीं पचने का सबसे बड़ा कारण है खाने के तुरंत बाद पानी पीना। 

व्यक्ति ने पूछा लेकिन मुनिवर खाना खाने के कितनी देर बाद तक पानी नहीं पीना चाहिए 

मुनिवर ने कहा कम से कम 1 घंटे तक क्योंकि जठराग्नि जलने की यह प्रक्रिया खाना खाने के 1 घंटे बाद तक चलती रहती है। 

व्यक्ति ने फिर पूछा मुनिवर क्या हम खाना खाने से पहले पानी पी सकते हैं? 

ऋषि ने कहा हाँ! हम खाना खाने से पहले पानी पी सकते हैं लेकिन खाना खाने से तुरंत पहले नहीं, बल्कि खाना खाने से आधे घंटे पहले आप जितना चाहें उतना पानी पी सकते हैं। उस व्यक्ति ने ऋषि से दोबारा पूछा, खाना खाने के 1 घंटे बाद तक पानी नहीं पीना चाहिए।

लेकिन क्या इसकी जगह कुछ और भी पिया जा सकता है ऋषि ने कहा हां, भोजन के बाद खट्टे फलों का रस, दही, नींबू का रस, मट्ठा, दूध पिया जा सकता है। और खाने के बाद इन खट्टी चीजों को पीने से हमारा खाना पचने में मदद मिलती है। लेकिन अगर आप इनका अधिकतम लाभ लेना चाहते हैं तो नाश्ते के बाद खट्टे फलों का रस, दोपहर के भोजन के बाद दही की लस्सी या मट्ठा और रात के खाने के बाद दूध पीना बहुत फायदेमंद होता है। जो व्यक्ति इस पहले नियम का पालन करेगा उसे कभी भी इनसे होने वाली 80 बीमारियों का सामना नहीं करना पड़ेगा। सड़ा हुआ खाना दोस्तों अगर आप योगासन और प्राणायाम करते हैं 

रोजाना कुछ समय तक और इस पोस्ट में बताए गए 4 नियमों का पालन करें तभी आपके शरीर को इन आयुर्वेदिक नियमों का पूरा फायदा मिलता है। 

ऋषि ने आगे कहा कि वात, पित्त और कफ तीनों को एक साथ संतुलित रखने के लिए महर्षि वाग्भट ने दूसरा नियम दिया है कि जब भी पानी पिएं, हमेशा अंदर लें। घूंट. 

व्यक्ति ने फिर पूछा लेकिन ऋषि क्यों? ऋषि ने कहा कि हमारे मुंह के अंदर का लार क्षारीय होता है और एसिड हमारे पेट के अंदर बनता है।

 जब हम पानी घूंट-घूंट करके पीते हैं तो हर बार थोड़ा सा लार पानी में घुलकर हमारे पेट में चला जाता है। और यह क्षारीय घोल पेट में मौजूद एसिड को निष्क्रिय कर देता है।

 जो हमारे पेट की एसिडिटी को कम करता है जिससे पेट में जलन की समस्या खत्म हो जाती है और जिसके पेट में एसिडिटी नहीं होगी उसके रक्त में एसिडिटी नहीं होगी और जिसके रक्त में एसिडिटी नहीं होती उसके शरीर में वात, पित्त और कफ संतुलित रहते हैं। और अगर हो सके तो जब भी आप पानी या कुछ भी पियें तो एक-एक घूंट मुंह में रखें और थोड़ी देर जीभ से घुमाएं उसके बाद फिर अंदर डालें इससे आपके शरीर को ज्यादा फायदा होगा और थोड़ा पीने से आपको कभी एसिडिटी या सीने में जलन की शिकायत नहीं होगी और गहरा

तो हमें लगेगा कि प्रकृति भी हमें आराम से घूंट-घूंट करके पानी पीने का संकेत देती है आप किसी भी पक्षी को देख लीजिए वह भी अपनी चोंच से बूंद-बूंद करके पानी पीता है कुत्ता, बंदर, शेर ये सभी जानवर भी अपनी जीभ से चाटकर पानी पीते हैं।

 कोई भी व्यक्ति एक साथ मुँह से पानी नहीं पीता केवल कुछ बड़े जानवर जैसे गाय, बैल और हाथी ही एक साँस में पानी पीते हैं क्योंकि उनके शरीर को पानी की बहुत आवश्यकता होती है और उनके शरीर में पानी की आवश्यकता को चाटने या घूंट-घूंट पीने से पूरा नहीं किया जा सकता है। लेकिन इंसान अपनी प्यास तो बुझा सकता है. पानी धीरे-धीरे पीने से इसलिए पानी पीने का तरीका बदलें और घूंट-घूंट करके पानी पिएं। ऋषि ने आगे कहा 

नियम 3. कितना भी प्यासा हो लेकिन कभी भी ज्यादा ठंडा पानी न पिएं 

व्यक्ति ने कहा अब इसका कारण भी बताओ मुनिवर ऋषि ने कहा कि हमारा शरीर अंदर से गर्म होता है और जब हम बहुत ठंडा पानी पीते हैं तो ठंडे पानी का तापमान हमारे शरीर के तापमान के बराबर होता है। हमारा शरीर बहुत अधिक ऊर्जा खर्च करता है। जिससे हम सुस्त और थके हुए हो जाते हैं। साथ ही, अधिक ठंडा पानी पीने से शरीर के अंदर के तापमान में अचानक बदलाव होता है, 

जिससे हमारे शरीर में पित्त और कफ का संतुलन बिगड़ जाता है। हमें सर्दी खांसी बुखार जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है यदि कोई कमजोर और बीमार व्यक्ति बहुत अधिक ठंडा या बर्फीला पानी पीता है तो यह उसकी मृत्यु का कारण भी बन सकता है क्योंकि यह बर्फीला पानी उसके पेट को पूरी तरह से ठंडा कर देता है जैसे ही पेट ठंडा हो जाता है। कलेजा भी ठंडा हो जाता है.

जब हृदय ठंडा होता है तो मस्तिष्क भी ठंडा हो जाता है और मस्तिष्क ठंडा होते ही व्यक्ति का पूरा शरीर ठंडा हो जाता है। और शरीर ठंडा होते ही व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है इसीलिए महर्षि वाग्भट ने बहुत अधिक ठंडे पानी के सेवन को गलत बताया है। 

ऋषि ने आगे कहा कि वात पित्त और कफ को संतुलित करने के लिए चौथा और आखिरी नियम है सुबह सबसे पहले पानी पीना।

 यानी जैसे ही आपकी आंखें खुलें, जितना हो सके उतना पानी पिएं। सुबह उठते ही पानी पीने से होते हैं 2 फायदे. 

पहला। जब हम सुबह उठकर पानी पीते हैं।

जिससे हमारी बड़ी आंत साफ हो जाती है और बड़ी आंत पर जोर दिया जाता है ताकि जब हम शौच करने जाएं तो हमारा पेट तुरंत साफ हो जाए और जिस व्यक्ति का पेट तुरंत साफ हो जाता है वह बीमार नहीं हो सकता ऐसा व्यक्ति नहीं होता है कब्ज की समस्या है और ये बात तो हर कोई जानता है

कब्ज यह सभी रोगों की जड़ है। 

सुबह सबसे पहले पानी पीने का दूसरा फायदा यह है कि सुबह के समय हमारे पेट में एसिड की मात्रा सबसे ज्यादा होती है। और जब हम बहुत सारा पानी पीते हैं तो हमारे मुंह की लार जो क्षारीय होती है वह पानी में घुल जाती है और हमारे पेट में जाकर पेट के अम्लीय माध्यम को निष्क्रिय कर देती है इसलिए सुबह उठकर पानी पीना बहुत जरूरी है।

तो ये थे महर्षि वाग्भट्ट द्वारा बताए गए 4 नियम जो सुनने में बहुत ही सरल लगते हैं लेकिन अगर आप इन 4 नियमों का लगातार पालन करते हैं तो कोई भी बीमारी आपको छू भी नहीं सकती ऋषि के मुख से चार नियम सुनने के बाद, अमीर व्यापारी को एहसास हुआ कि जैसे उसे मिल गया है उसकी समस्या का समाधान हो गया उसने राहत की सांस ली उसने ऋषि के सामने उन चार नियमों का पालन करने का संकल्प लिया। 

धन्यवाद देने के बाद वह खुशी-खुशी चला गया। दोस्तों मुझे उम्मीद है कि आपको इस पोस्ट से बहुत कुछ सीखने को मिला होगा।  

 

1 thought on “हमेशा स्वस्थ रहने के लिए आयुर्वेद के चार नियम | 4 Ayurvedic Rules For A Healthy Life”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
10 रोचक तथ्य: सोलर सस्ता है फिर भी क्यों नहीं इस्तेमाल करते? 9 Tips to Adopting a Plant-Based Diet 10 Effective Tips to Build Wealth धन बनाए रखने के लिए 10 प्रभावी टिप्स किसी कंपनी में सीईओ (CEO) की भूमिका क्या है? 15 Tips to Grow Your Online Business in 2023 यूपीआई से पैसे गलत जगह गए? जानिए 15 छुपे रहस्यमय तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे! धनतेरस क्यों माना जाता है: 10 छुपे और चौंका देने वाले तथ्य दीपावली: 10 गुप्त और अद्भुत तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे 15 सुपर रहस्यमयी तथ्य: जानिए लड़कियों के प्यार में छिपे संकेत हिंदी गीत एल्बम रिलीज के रहस्य: 10 आश्चर्यजनक तथ्य जो आपको चौंका देंगे