कीटो डाइट क्या है पूरी जानकारी के साथ?

कीटो डाइट क्या है पूरी जानकारी के साथ?

कीटो डाइट क्या है पूरी जानकारी के साथ?

कीटो डाइट क्या है पूरी जानकारी के साथ? –  आपसे पूछा जाये कि कीटो डाइट क्या होती है ? तो क्या आप ये भी बता सकते हो… हो सकता है कि आप इसके बारे में जानते हों या फिर नहीं जानते हों… इसलिए बेहतर यही होगा कि हम आज इसके बारे में जान ही लें। वैसे भी ये वर्ड ‘ कीटो डाइट‘ इतना पॉपुलर है कि हर कोई इसके बारे में जानना चाहता है, तो फिर आप भी पीछे क्यों रहो.. इसलिए चलो, आज जानते हैं कीटो डाइट के बारे में, डिटेल में.

कीटो डाइट क्या है ?

अगर आपसे पूछा जाए कि हेल्दी डाइट क्या होती है तो आप बता सकते हो कि ऐसी डाइट जो ओवरऑल हेल्थ को मेंटेन करती है जो बॉडी को जरूरी न्यूट्रिशन प्रोवाइड कराती है वह हेल्दी डाइट कहलाती है 

                                                            लेकिन अगर आपसे पूछा जाए कि यह कीटो डाइट क्या होती है तो क्या आप यह भी बता सकते हैं हो सकता है कि आप इसके बारे में जानते हो या फिर नहीं जानते हो इसलिए बेहतर यही होगा कि हम आज इसके बारे में जान ही ले वैसे भी यह वर्ड कीटो डाइट इतना फेमस है कि हर कोई इसके बारे में जानना चाहता है तो फिर आप भी पीछे क्यों रहे 

इसलिए चलिए आज जानते हैं कीटो डाइट के बारे में थोड़ा डिटेल में तो कीटो डाइट एक लो काप डाइट होती है और इस डाइट में बॉडी लीवर में कीटोस प्रोड्यूस करती है जिन्हें एनर्जी के फॉर्म में यूज किया जाता है ये समझना थोड़ा मुश्किल लगा ना तभी तो कहती हूं कि पोस्ट को पूरा जरूर पढ़िए 

 ताकि सब कुछ आसानी से समझ आ जाए तो कीटो डाइट जिसे कीटो जनिक डाइट लो काप डाइट और लो काप हाई फैट डाइट जैसे नामों से भी जाना जाता है उसमें कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा बहुत ही कम ली जाती है कार्बोहाइड्रेट्स या कार्ब्स शुगर मॉलिक्यूल होते हैं प्रोटीन और फैट्स के साथ यह भी ऐसे मेन न्यूट्रिएंट है जो हमें फूड और ड्रिंक्स से मिलते हैं हमारी बॉडी कार्बोहाइड्रेट्स को ग्लूकोज में तोड़ती है और यह ग्लूकोज जिसे ब्लड शुगर भी कहते हैं यह हमारी बॉडी की सेल्स टिशूज और ऑर्गन्स के लिए एनर्जी का मेन सोर्स होता है और जब बॉडी कार्ब्स को ग्लूकोज में तोड़ देती है 

उसके बाद पैंक्रियास इंसुलिन हार्मोन रिलीज करता है जो ग्लूकोज को अब्जॉर्ब करने में सेल्स की मदद करता है जिन फूड आइटम्स में शुगर होती है वह कार्बोहाइड्रेट्स रिच होते हैं जैसे फ्रूट्स वेजिटेबल्स मिल्क प्रोसेस्ड फूड डिजर्ट्स और कैंडी और जिन फूड आइटम्स में स्टार्च होता है वो भी कार्बोहाइड्रेट रिच होते हैं जैसे ब्रेड पास्ता सीरियल पोटेटो पीज और कॉर्न तो इसी तरह फाइबर से भरपूर फ्रूट्स वेजिटेबल्स नट्स सीड्स बींस और होल ग्रेंस भी कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होते हैं 

अब कार्बोहाइड्रेट रिच फूड आइटम्स तो पता चल गए हैं तो अब आगे कीट डाइट से होने वाले बेनिफिट्स के बारे में जानते हैं तो सबसे पहले तो यह वेट लॉस में काफी मदद करती है क्योंकि बॉडी स्टोर्ड फैट को एनर्जी सोर्स की तरह यूज करती है इसलिए वेट लॉस तो होना ही है इससे कोलेस्ट्रॉल लेवल भी इंप्रूव हो जाते हैं कीटोस ब्रेन के लिए फ्यूल का काम करते हैं 

जिससे फोकस और कंसंट्रेशन काफी बेहतर होता है इससे पूरे दिन एनर्जी भी फील होती है और एपिलेप्सी यानी मिर्गी को कंट्रोल करने में यह डाइट काफी मदद करती है कीटो डाइट स्किन में भी सुधार लाती है और एक्ने जैसी प्रॉब्लम्स को भी दूर करती है कीटो डाइट के इन सारे बेनिफिट्स को जानने के बाद आप इस डाइट के बारे में और ज्यादा जानना चाह रहे होंगे 

इसलिए अब आपको बताते हैं कि कीटो डाइट के जरिए कीटोस स्टेट में आया जाता है कीटोस एक नेचुरल प्रोसेस है और यह तब शुरू होता है जब खाना कम खाया जाता है तो ऐसे में एनर्जी बनाने के लिए बॉडी इनिशिएटिव लेती है और लीवर में स्टोर फैट्स को तोड़कर कीटोस बनाती है और इन कीटोस का यूज एनर्जी की तरह किया जाता है 

क्यों की बॉडी को एनर्जी तो हर हाल में चाहिए 

चाहे बाहर से कार्बोहाइड्रेट रिच फूड से मिले या फिर बॉडी के अंदर लीवर में जमा फैट को तोड़कर मिले बॉडी को सर्वाइवल के लिए एनर्जी चाहिए ही चाहिए फास्टिंग के टाइम एक्सरसाइज के लॉन्ग पीरियड्स के दौरान और बहुत कम कार्बोहाइड्रेट्स लेने पर भी यही कीटोस बॉडी को एनर्जी देने का काम करते हैं और एक कीट डाइट का एंड गोल यही होता है कि बॉडी को इस मेटाबॉलिक स्टेट कीटोस में लाया जाए इस डाइट में भूखा रहने की जरूरत नहीं होती बस कार्बोहाइड्रेट्स को कम करना होता है और इस कीटो डाइट को शुरू करने के लिए प्रॉपर डाइट प्लान होना जरूरी है 

क्योंकि आप जो भी खाएंगे उसी के बेस पर यह पता चलेगा कि आप कीटोस इस स्टेट में कितना जल्दी पहुंचेंगे और इस स्टेट तक जल्दी पहुंचने के लिए कार्बोहाइड्रेट्स पर जितना ज्यादा रिस्ट्रिक्शन होना उतना ही जल्दी कीटोस स्टेट शुरू हो जाना तो इस डाइट को शुरू करने के लिए यह जानना जरूरी है कि क्या खाया जाए और क्या नहीं खाया जाए 

तो पहले जानते हैं कि क्या नहीं खाया जाए 

ब्रेड पास्ता सीरियल्स जैसे रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट्स पोटेटो बींस और लेगम्स जैसे स्टार्च फूड आइटम्स फ्रूट्स और डेरी प्रोडक्ट्स 

तो फिर खाया क्या जाना चाहिए

स्पिनेट यानी कि पालक और केल जैसी पत्तेदार हरी सब्जियां ब्रोकली कॉलीफ्लावर हार्ड चीज हाई फैट क्रीम और बटर जैसे हाई फैट डेरी प्रोडक्ट्स वॉलनट्स और सनफ्लावर सीड्स एवोकाडो ब्लैकबेरी रासबरीकेस एक्सेट्रा इनकेला एग्स फिश और पोल्ट्री को भी अपनी डाइट में शामिल किया जा सकता है जिससे डाइट में फैट की मात्रा ज्यादा हो और कार्बोहाइड्रेट्स की कम हो आप इस डाइट को इस तरह भी याद रख सकते हैं कि कीटो डाइट फैट में हाई होती है 

प्रोटीन में मॉडरेट यानी मीडियम और कप्स में बहुत लो होती है इसलिए आपकी कीटो डाइट में लगभग 70 पर फैट्स होना चाहिए 25 पर प्रोटीन और केवल 5 पर कार्बोहाइड्रेट कीटो डाइट फॉलो करने पर बॉडी में कई सारे चेंजेज देखे जा सकते हैं 

जिनसे यह पता लग सकता है कि आपने कीटोस स्टेट अचीव कर ली है और ऐसे कॉमन साइंस और सिमटम्स है बैड ब्रेथ वेट लॉस भूख कम लगना हेडेक नशिया और थकान महसूस होना और इस स्टेट को कंफर्म करने के लिए ब्लड कीटोन लेवल्स चेक किया जाना चाहिए जिसके लिए यूरिन या ब्लड मेजरर का यूज किया जाता है 

अगर इनमें ब्लड कीटोन 0.5 से 3.0 मिलीमोल्स पर लीटर की रेंज में आते हैं तो इसका मतलब आपकी बॉडी में कीटोस की स्टेट शुरू हो चुकी है इन सिम्टम्स के बारे में जानकर घबराइए मत ये सिमटम्स कीटो डाइट की शुरुआत में फील होते हैं और हैबिट बनने के साथ इंप्रूव भी हो जाते हैं 

लेकिन आपको यह भी पता होना चाहिए कि कीटो डाइट के कई रिस्क भी हुआ करते हैं लॉन्ग टर्म तक इस डाइट पर बने रहने से ब्लड में प्रोटीन कम हो सकता है लीवर में एक्स्ट्रा फैट की प्रॉब्लम हो सकती है किडनी स्टोंस हो सकते हैं और बॉडी में मैक्रो न्यूट्रिएंट की कमी भी हो सकती है भूख बढ़ सकती है स्लीप इश्यूज हो सकते हैं

डाइजेस्टिव डिस्कंफर्ट भी हो सकता है और एक्सरसाइज परफॉर्मेंस भी डाउन जा सकती है है 

एक स्टडी यह भी बताती है कि कीट डाइट बॉडी को इंसुलिन का प्रॉपर यूज नहीं करने देती जिससे ब्लड शुगर प्रॉपर्ली कंट्रोल नहीं हो पाता इस वजह से टाइप टू डायबिटीज का रिस्क बढ़ सकता है

 किडनी प्रॉब्लम वाले लोगों के लिए कीटो डाइट सूटेबल नहीं मानी जाती और प्रेग्नेंट और ब्रेस्ट फीडिंग मदर्स के लिए भी यह डाइट रिकमेंड नहीं की जाती इन रिस्क और साइड इफेक्ट्स को कम करने के लिए अपनी डाइट में कार्बोहाइड्रेट को एकदम से कम करने की बजाय शुरू के कुछ हफ्तों में इसकी मात्रा धीरे-धीरे थोड़ी-थोड़ी कम करनी चाहिए 

ताकि बॉडी को फैट बर्न करके एनर्जी लेने की हैबिट बन जाए और जब आप अपनी डाइट में बहुत कम मात्रा में कार्बोहाइड्रेट्स लो तो बॉडी को इससे कोई परेशानी ना हो यानी तुरंत कोई बड़ा बदलाव करने की बजाय अपनी बॉडी की हैबिट बनानी चाहिए और धीरे-धीरे जब बॉडी इन सारे चेंजेज को एक्सेप्ट कर ले तब फुल कीटो डाइट शुरू की जानी चाहिए 

इस डाइट से बॉडी का वाटर एंड मिनरल बैलेंस भी चेंज हो सकता है इसलिए अपने खाने में एक्स्ट्रा सॉल्ट लेने की जरूरत पड़ सकती है और अगर कीटो फ्रेंडली रेसिपीज ट्राई की जाए तो इस डाइट जर्नी को टेस्टी और एक्साइटिंग भी बनाया जा सकता है 

लेकिन यहां पर एक बात समझना भी जरूरी है कि कीटो डाइट यूं तो एक सेफ डाइट मानी जाती है 

लेकिन यह सबके लिए सेफ हो यह जरूरी नहीं इसलिए ऐसी कोई भी डाइट या डाइट प्लान शुरू करने से पहले बेहतर होगा कि अपनी डाइटिशियन से या डॉक्टर से अपनी बॉडी की न्यूट्रिशन जरूरत के बारे में जान लिया जाए ताकि बीच में किसी भी तरह की प्रॉब्लम ना हो और ना ही कीटो डाइट पूरी करने के बाद कोई प्रॉब्लम आए क्योंकि आपका पर्पस तो हेल्दी रहना है है ना तो यह पर्पस पूरा होना चाहिए 

इसीलिए आप इस इंफॉर्मेशन पोस्ट में बताई गई इंफॉर्मेशन को सही तरह से यूटिलाइज कीजिए और अगर आपको लगता है कि आपको कीटो डाइट शुरू करनी चाहिए तो उसके लिए पहले किसी रजिस्टर्ड डाइटिशियन या हेल्थ केयर प्रोफेशनल से कंसल्ट जरूर करें तो यह जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट सेक्शन में जरूर बताइए  तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर करें ताकि उन्हें एगजैक्टली सही जानकारी मिल पाए कीटो डाइट के बारे में कभी-कभी क्या होता है ना किसी ने बोला अरे कीटो डाइट के बाद में ना मेरा वेट इतना कम हो गया ऐसा वैसा और बस हम भी ना शुरू हो जाते हैं कि चलो हम भी करते हैं 

लेकिन हमारी बॉडी के लिए क्या जरूरी है क्या नहीं है इन सब चीजों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है तो शेयर आप कीजिए और लाइक ऑलरेडी कर चुके हैं तो फिर अगला टॉपिक लिख दीजिए अगला सब्जेक्ट या अगला सवाल जिसके बारे में आप पोस्ट देखना चाहते हैं और य्हरेड के साथ हमेशा जुड़े रहिए ऐसे अमेजिंग जानकारियों के लिए सब्सक्राइब कर लीजिए बेल आइकन प्रेस कर दीजिए संदीप मिलेगी नई जानकारी के साथ बहुत जल्दी ही तब तक के लिए अपडेट रहिए ग्रो करते रहिए धन्यवाद

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
9 Tips to Adopting a Plant-Based Diet 10 Effective Tips to Build Wealth धन बनाए रखने के लिए 10 प्रभावी टिप्स किसी कंपनी में सीईओ (CEO) की भूमिका क्या है? 15 Tips to Grow Your Online Business in 2023 यूपीआई से पैसे गलत जगह गए? जानिए 15 छुपे रहस्यमय तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे! धनतेरस क्यों माना जाता है: 10 छुपे और चौंका देने वाले तथ्य दीपावली: 10 गुप्त और अद्भुत तथ्य जो आपको हैरान कर देंगे 15 सुपर रहस्यमयी तथ्य: जानिए लड़कियों के प्यार में छिपे संकेत हिंदी गीत एल्बम रिलीज के रहस्य: 10 आश्चर्यजनक तथ्य जो आपको चौंका देंगे फोल्डेबल स्क्रीन कैसे काम करती है? इस ताजगी से भरपूर जानकारी के साथ!